कुरुक्षेत्र, जेएनएन। रेडक्रास का सेवाभाव, आमजन को महामारी से हराने के लिए प्रेरणा बन रहा है। संकट के दौर में रक्त की एक-एक बिंदू अनमोल है और धर्मनगरी रक्त जुटाने में प्रदेश भर में चौथे स्थान पर है। यही नहीं प्लाजमा के एकत्रिकरण में भी जिला तीसरे स्थान पर है। 

कोरोना संक्रमण की दर लगातार बढ़ रही है। बेकाबू हो रही महामारी में रक्त की किल्लत बढ़ रही है। रक्त की इस किल्लत को दूर करने के लिए रेडक्रास के स्वयं सेवक हर वक्त तैयार रहते हैं। कोरोना संक्रमित को प्लाजमा के जरिये नई जिंदगी देने में भी रेडक्रास अहम भूमिका निभा रहा है। यदि रक्तदान की बात की जाए तो अप्रैल माह से लेकर अभी तक एक महीने की अवधि में 188 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया है। 

धर्मनगरी से आगे फरीदाबाद है, जहां पर 515 यूनिट, अंबाला में 235 यूनिट और रोहतक में 190 यूनिट रक्त एकत्रित हुआ है। इसके साथ ही प्लाजमा डोनेट में भी जिले की स्थिति बेहतर है। अंबाला में 158 यूनिट प्लाजमा कोरोना को हरा चुके लोगों ने डोनेट किया है तो फरीदाबाद में 164 और धर्मनगरी तीसरे स्थान है, जहां पर 42 यूनिट प्लाजमा एकत्रित किया गया है। 

संक्रमण से बचाने में रेडक्रास कर रहा अहम रोल अदा

संक्रमण से लोगों को सुरक्षित रखने में रेडक्रास के स्वयं सेवक अहम भूमिका निभा रहे हैं। आमजन को मास्क से लेकर सेनिटाइजर बांटा जा रहा है। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में मास्क महामारी से बचाने में सबसे ज्यादा कारगर साबित हो रहा है। लिहाजा अभी तक रेडक्रास की ओर से तरकीबन 1500 मास्क वितरित किए चुके हैं और इतनी ही संख्या में साबून बांटे गए हैं। 50 से ज्यादा हेंड सेनिटाइजर वितरित किए गए हैं।