शाहाबाद (कुरुक्षेत्र), संवाद सहयोगी। शाहाबाद में मारकंडा नदी में एक दिन पहले आठ हजार क्यूसिक पानी पहुंचने और मौसम विभाग की अगले दो दिन तेज वर्षा के अनुमान के बाद प्रशासन अलर्ट मोड में आ गया है। शाहाबाद एसडीएम की ओर निर्देश जारी होते ही मंगलवार को मारकंडा नदी के साथ लगते गांवों में मुनादी करवाई गई है। नदी में किसी भी समय पानी का स्तर बढ़ने के अंदेशे को देखते हुए नदी में नहाने के लिए पहुंचने वाले ग्रामीण युवाओं और बच्चों को भी नदी से दूर रहने ही हिदायत जारी की गई हैं।

गांव कलसाना की एक गली में आए पानी को पंप सेट लगाकर निकाला

एक दिन पहले ही नदी में आठ हजार क्यूसिक पानी आने पर गांव कलसाना की एक गली में पानी पहुंच गया था। इस पानी को पंप सेट लगाकर निकाला गया है। इसके साथ ही सभी खंड विकास एवं पंचायत अधिकारियों को स्थिति पर नजर रखने के निर्देश जारी किए गए हैं। हालांकि मंगलवार को वर्षा न होने पर नदी में पानी का स्तर कम हो गया है।

नदी में पानी का स्तर 10 हजार क्यूसिक से ऊपर जाने पर कई गांव की फसल होती हैं प्रभावित

मानसून में पहाड़ी क्षेत्रों में तेज वर्षा होते ही मारकंडा नदी उफान पर आने लगती है। मारकंडा नदी में पानी का स्तर 10 हजार क्यूसिक से ऊपर पहुंचते ही वह नदी के साथ लगते कई गांवों की फसल को अपनी चपेट में ले लेता है। पानी का स्तर और बढ़ने पर कठवा, कलसाना, अरूप नगर, गुमटी, दयालनगर, मुगल माजरा व मदनपुर के खेतों में अपने डेरे भी बाढ़ की चपेट में आ सकते हैं।

मंगलवार को 36.4 डिग्री पर पहुंचा तापमान

मंगलवार को आसमान में दिन भर बादलों को सूर्य देवता के बीच लुका छीपी का खेल चलता रहा। तेज धूप खिलने पर अधिकतम तापमान 36.4 डिग्री सेल्सियस रहा। न्यूनतम तापमान भी 29.4 डिग्री सेल्सियस पहुंचने से लोगों को रात भर बेचैनी झेलनी पड़ रही है। हवा में नमी का स्तर भी 92 प्रतिशत तक पहुंच गया है। चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विवि हिसार के कृषि विज्ञान केंद्र की मौसम विशेषज्ञ डा. ममता ने बताया कि बुधवार व वीरवार को ज्यादातर स्थानों पर गरज, चमक के साथ मध्यम से भारी वर्षा की संभावना है।

अधिकारियों को सतर्क रहने के दिए निर्देश

शाहाबाद एसडीएम कपिल शर्मा ने कहा कि तेज वर्षा के अंदेशे को देखते हुए सभी खंड विकास एवं पंचायत अधिकारियों को गांवों में नजर रखने के निर्देश दिए हैं। मारकंडा नदी के साथ लगते गांवों में मुनादी करवाई गई है। नदी में किसी भी समय पानी का स्तर बढ़ सकता है। ऐसे में ग्रामीणों को नदी से दूर रहने की हिदायत दी गई है।

Edited By: Naveen Dalal