जागरण संवाददाता, पानीपत: शिवाजी स्टेडियम में तीन दिवसीय खेल महाकुंभ के तहत हुई कबड्डी और वूशु प्रतियोगिता का रविवार को समापन हो गया। महिला वर्ग में करनाल ने स्वर्ण, चरखी-दादरी ने रजत, रोहतक और भिवानी ने संयुक्त रूप से कांस्य पदक जीता। पुरुष वर्ग में रोहतक ने स्वर्ण, भिवानी ने रजत, पानीपत व झज्जर ने संयुक्त रूप से कांस्य पदक हासिल किया बतौर मुख्य अतिथि शहरी विधायक प्रमोद विज ने विजेता खिलाड़ियों को पुरस्कृत करते हुए कहा कि बच्चों शिक्षा के साथ-साथ खेलों में भी भागीदारी करनी चाहिए। सरकार की नई खेल नीति की वजह से खिलाड़ियों को प्रोत्साहन मिला है। प्रतियोगिता की अध्यक्षता हरियाणा कबड्डी संघ व एमच्योर कबड्डी एसोसिएशन के अध्यक्ष और पूर्व परिवहन मंत्री कृष्णलाल पंवार ने की। इस अवसर पर जिला खेल अधिकारी अनिल कुमार, पूर्व अंतरराष्ट्रीय कबड्डी कोच बलवान सिंह दहिया, पूर्व अंतरराष्ट्रीय कुश्ती कोच प्रेम सिंह आंतिल, गुरुकुल मोर मजरा के कोच राजकुमार, यशपाल मलिक, सतनारायण और जिला पार्षद नरेश गोस्वामी मौजूद रहे। मौजूद रहे।

खिलाड़ियों को मिले चार लाख रुपये के पुरस्कार

50 कोचों की निगरानी में प्रतियोगिता हुई। वितेजा टीमों व खिलाड़ियों को चार लाख रुपये के पुरस्कार बांटे गए। पूर्व परिवहन मंत्री कृष्णलाल पंवार ने बताया कि 16 से 17 नवंबर को रोहतक के लाखनमाजरा में कबड्डी चैंपियनशिप कराई जाएगी। वूशु में नेहा अव्वल

वूशु में 70 किलोग्राम में नेहा अव्वल रही। इसी वर्ग में स्वाति ने रजत, प्रीति और वर्षा रानी ने कांस्य पदक जीता। 75 किलोग्राम में निर्मल, अनीता, सिमरण, स्वाति, 75 किलोग्राम में श्रवण, विनित, यगुल व सुरेंद्र ने स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक जीता। 80 किलोग्राम में मोहित, पीयूष, सोमेश, भरत पाल, 85 किलोग्राम में रोहित, भगत सिंह, हरदीप और सागर, 90 किलोग्राम में सुमित, मोनू चौहान, प्रीतम और कृष्णदेव ने स्वर्ण, रजत और कांस्य पदक जीता।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप