करनाल, जागरण संवाददाता। करनाल जिला प्रशासन की पहल पर पंचायत भवन में गंगाजल के निशुल्क वितरण की व्यवस्था की गई है। हरिद्वार से 3500 लीटर गंगाजल एक टैंकर में लाया गया है। रोजाना सुबह नौ से शाम पांच बजे तक गंगाजल बांटा जाएगा। जो भी व्यक्ति जल लेने आए, वह अपना जलपात्र साथ लेकर आए। एक व्यक्ति को 200 एमएल गंगाजल दिया जाएगा। वहीं, डाकघर में तीस रुपये में 200 एमएल गंगाजल की बोतल दी जा रही है। श्रद्धालुओं को हरिद्वार नहीं जा पाने का मलाल तो है लेकिन गंगाजल उपलब्ध होने से संतुष्टि भी है।

डीसी निशांत कुमार यादव ने बताया कि सावन में शिव भक्तों की श्रद्धा को देखते हुए प्रशासन द्वारा जिला मुख्यालय पर पंचायत भवन के प्रांगण में गंगाजल का विशेष प्रबंध किया गया है। श्रद्धालु इस बार कोरोना के कारण हरिद्वार नहीं जा सकते थे, क्योंकि हरिद्वार पहुंचकर कांवड़ व गंगाजल लाने पर प्रतिबंध है।

करना होगा रजिस्ट्रेशन

उपायुक्त ने बताया कि कांवड़ यात्र पर प्रतिबंध के चलते श्रद्धालुओं की समस्या को देखते हुए हरिद्वार प्रशासन के साथ मिलकर जिला मुख्यालय पर ही गंगाजल का विशेष प्रबंध किया है। सभी श्रद्धालु छह अगस्त तक हर रोज पंचायत भवन से गंगाजल ले सकते हैं। गंगाजल लेने से पहले श्रद्धालु अपनी एक साधारण प्रक्रिया में रजिस्ट्रेशन करवाएंगे। रजिस्ट्रेशन काउंटर पर वह सिर्फ अपना नाम, पता व मोबाइल नंबर लिखवाकर हस्ताक्षर करेंगे।

डाकघर में भी मिलेगा

डाकघर अधीक्षक रोहताश ने बताया कि श्रद्धालुओं की आस्था के लिए सरकार द्वारा डाक विभाग के मार्फत भी हरिद्वार से गंगा जल पहुंचाया जा रहा है। इसके लिए मुख्य डाकघर में अलग से काउंटर लगाया गया है। सावन के कारण डाकघर से गंगा जल खरीदने की डिमांड बढ़ रही है। शहर के अलावा जिले में घरौंडा, नीलोखेड़ी, इंद्री के डाकघरों में भी 30 रुपए में 200 एमएल गंगा जल उपलब्ध है।

Edited By: Anurag Shukla