सीवन(कैथल), संवाद सहयोगी। बिजली का बिल अदा न होने से राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सैर का बिजली का कनेक्शन काट दिया गया। बता दें कि विद्यालय का एक लाख 33 हजार रुपये का पिछले एक वर्ष से बकाया था, जिसे भरा नहीं गया था। प्रधानाचार्य राजेश कुमार ने बताया कि विद्यालय का बिजली का बिल बकाया है, जो एक वर्ष से अदा नहीं किया गया है। इस कारण से बिजली निगम के कर्मचारी शनिवार को मीटर उतार कर ले गए। इससे स्कूल में बिजली संकट पैदा हो गया है।

उन्होंने बताया कि बिजली के बिल के बारे में कई बार शिक्षा विभाग के उच्चाधिकारियों से बात की गई। परंतु विभाग की ओर से बिजली के बिल के लिए बजट प्राप्त नहीं हुआ। इस विषय पर खंड शिक्षा अधिकारी सीवन कार्यालय की ओर से भी बिजली के बिल की मांग उपायुक्त कार्यालय के जरिए उच्चाधिकारियों को भेजी जा चुकी है। बकाया बिल के कारण आज विद्यालय का बिजली का मीटर उतार लिया गया। जिस कारण से विद्यालय में बिजली से चलने वाले सभी कार्य बंद हो गए हैं। कंप्यूटर के कार्य भी बाधित हो गए हैं।

बिजली के बिल के लिए बजट नहीं मिला

सीवन के खंड शिक्षा अधिकारी सतीश कक्कड़ ने बताया कि सैर के राजकीय विद्यालय का बिजली का बिल बकाया है। जिसके लिए उपायुक्त कैथल के माध्यम से उच्च अधिकारियों से बजट की मांग की गई थी। अभी तक बिजली के बिल के लिए बजट प्राप्त नहीं हुआ।

निगम ने नियमानुसार की कार्रवाई

निगम के एसडीओ प्रदीप चौधरी ने बताया कि उनके पास पूरे सीवन ब्लाक की उन कनेक्शनों की सूची आई थी जिनका बिजली का बिल लंबे समय से बकाया था। विभाग के नियमों के अनुसार उन सभी के कनेक्शनों को काटा जा रहा है। उच्च अधिकारियों से आई लिस्ट में सैर के राजकीय विद्यालय का भी नाम था, जिनका बिजली का बिल बकाया था। बकाया होने के कारण मीटर को उतार लिया गया है।

पहले भी काटा गया था राजकीय विद्यालय का कनेक्शन

बता दें कि जिले में कई राजकीय विद्यालयों का बकाया 50 हजार रुपये से ऊपर का है। इन विद्यालयों में बिजली बिल भरने को लेकर अभी तक विभाग की तरफ से बजट की मंजूरी नहीं मिली है। ऐसे में पिछले महीने ही गांव शेरगढ़ के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय का बिजली का कनेक्शन भी काटा गया था। इस विद्यालय का भी करीब 84 हजार रुपये का बिल बकाया था। हालांकि विभाग के अधिकारियों के आश्वासन के बाद यह कनेक्शन जोड़ दिया गया था।

Edited By: Rajesh Kumar