जींद, जागरण संवाददाता। अलेवा में कंप्यूटर सेंटर संचालक द्वारा चार युवकों को सरकारी नौकरी लगवाने का झांसा देकर छह लाख 20 हजार रुपये हड़पने का मामला सामने आया है। पुलिस ने कंप्यूटर सेंटर संचालक के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया। 

आरोपित ने खोला हुआ था कंप्यूटर सेंटर

गांव अलेवा निवासी अबला ने अलेवा थाना पुलिस को दी शिकायत में बताया कि करनाल जिल के असंध निवासी पलविंद्र ने पिछले दिनों अलेवा बस स्टैंड के निकट कंप्यूटर सेंटर खोला था। जहां पर आरोपित कंप्यूटर चलाने का प्रशिक्षण देता था और सेंटर पर आने वाले युवाओं को सरकारी नौकरी दिलाने का झांसा देता था। उसका बेटा संदीप भी कंप्यूटर सेंटर पर जाता था। जहां पर आरोपित पलविंद्र ने संदीप को बताया कि वह उसके जन चेतना ग्रामीण विकास में नौकरी  लगवा देगा। नौकरी के नाम पर आरोपित ने एक लाख 90 हजार रुपये की नकदी ले ली। दिसंबर 2019 को आरोपित ने उसने ड्यूटी पर ज्वाइन करवा दी और आइडी कार्ड भी जारी किया। जहां पर उसके बेटे संदीप ड्यूटी करता रहा, लेकिन अप्रैल माह में उनका कार्यालय बंद हो गया। इस दौरान उसके बेटे संदीप की एक लाख 25 हजार रुपये का वेतन भी नहीं दिया। अब जब आरोपित से रुपये मांगे तो वह उसे झूठे केस में फंसाने की धमकी देता है।

इन लोगों को बनाया शिकार

आरोपित पलविंद्र ने संदीप के दोस्त अलेवा निवासी मोनू से चौधरी रणबीर सिंह विश्वविद्यालय में नौकरी लगवाने के लिए एक लाख 80 हजार रुपये, अलेवा निवासी सुरेंद्र से दिल्ली में डीटीसी में परिचालक लगवाने के नाम पर डेढ़ लाख रुपये, गांव अलेवा निवासी मोहनलाल से सरकारी नौकरी के नाम पर एक लाख रुपये की नकदी ली। नकदी लेने के बाद आरोपित ने सेंटर को बंद कर दिया और उसके बाद से फोन भी नहीं उठाता है। मामले के जांच अधिकारी एएसआइ सुरेश कुमार ने बताया कि असंध निवासी पलविंद्र के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया है।

Edited By: Rajesh Kumar