जागरण संवाददाता, पानीपत : विभाग की लाख कोशिशों के बावजूद राशन डिपो होल्डर कार्ड धारकों को मिलने वाले राशन वितरण में गड़बड़ी से बाज नहीं आ रहे हैं। पिछले माह में भी अनेक डिपो होल्डर द्वारा केंद्र सरकार की ओर से प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत मिलने वाला निश्शुल्क अनाज नहीं दिया गया। कार्ड धारकों के पूछने पर किसी ने कम तो किसी ने उक्त योजना के तहत अनाज न आने की बात कह देने से मना कर दिया। ऐसे में विभागीय अधिकारियों के पास कार्यालय में कई डिपो होल्डर के खिलाफ शिकायत पहुंची हैं। अधिकारियों ने मामले को गंभीरता से लेते हुए तुरंत कार्रवाई कर जहां दो डिपो होल्डर की सप्लाई बंद कर दी है। वहीं अन्य के खिलाफ जांच की जा रही है। कोरोना काल में शुरू की थी योजना

जिले में 1.56 लाख राशन कार्ड धारक है। राशन कार्ड में शामिल हर व्यक्ति को प्रदेश सरकार की तरफ से पांच किलोग्राम गेहूं दो रुपये प्रति किलोग्राम के हिसाब से दिया जाता है। वहीं कोरोना काल के दौरान केंद्र सरकार की तरफ से प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत प्रति व्यक्ति पांच किलोग्राम गेहूं निश्शुल्क दिया जा रहा है। उक्त योजना के तहत नवंबर माह तक निश्शुल्क गेहूं मिलना था, लेकिन अब सरकार ने बढ़ाकर इसे मार्च 2022 तक कर दिया है। परंतु उक्त योजना के तहत मिलने वाले गेहूं को कुछ डिपो होल्डर राशन कार्ड धारकों में वितरित करने की बजाय बहानेबाजी कर खुद हजम कर रहे हैं। ऐसे शिकायतें हर माह निकलकर सामने आ रही हैं। दो डिपो की सप्लाई सस्पेंड, बाकी की जांच

जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक सुभाष सिहाग ने बताया कि जिले में कई डिपो होल्डर द्वारा नवंबर माह में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत मिलने वाला अनाज वितरित न करने की शिकायतें मिली है। इसमें देशराज कालोनी, नूरवाला, गंगाराम कालोनी, वार्ड 26, मोतीराम कालोनी, गांव बबैल, झट्टीपुर व रसलापुर के डिपो धारक शामिल हैं। उन्होंने बताया कि देशराज कालोनी के दोनों डिपों धारकों की सप्लाई सस्पेंड कर दी गई है। संबंधित एरिया एएफएसओ व निरीक्षक को मौके पर जाकर कार्डधारकों के बयान लेने आने के लिए कहा गया है। इसके बाद रिपोर्ट के आधार पर अन्य के खिलाफ भी विभागीय कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। उन्होंने कहा कि राशन वितरण में गड़बड़ी को किसी भी सूरत में सहन नहीं किया जाएगा। छह दिसंबर तक करना होगा आइडी मिलान का काम पूरा

जिले के 1.56 लाख राशन कार्ड धारकों में से करीब 35 हजार कार्ड धारकों के परिवार पहचान पत्र व राशन कार्ड में शामिल सदस्यों की संख्या मेल नहीं खा रही है। ऐसे में विभागीय उच्च अधिकारियों की तरफ से उक्त कार्ड धारकों के परिवार पहचान पत्र जमा करा उनके मिलान के निर्देश जारी किए गए हैं। ऐसे में मिलान होने पर राशन कार्ड में शामिल सदस्य का यदि परिवार पहचान पत्र में नाम शामिल नहीं होगा तो कार्ड से उसका नाम कटना तय है। डीएफएससी सुभाष सिहाग ने बताया कि 35 हजार में से 21 हजार 291 कार्ड धारकों के परिवार पहचान पत्र का मिलान किया जा चुका है। पीपीपी मिलान का ये कार्य छह दिसंबर तक पूरा कर उच्च अधिकारियों को रिपोर्ट भेजनी है। ऐसे में अधिकारी व कर्मचारियों की ड्यूटी लगा समय पर काम करने के निर्देश दिए गए हैं।

Edited By: Jagran