मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण न्यूज नेटवर्क, पानीपत : शहर में शराब ठेकेदारों के बदमाशों की गुंडागर्दी जारी है। रविवार रात को बदमाशों ने सरेआम शिव कॉलोनी में कृष्ण को गोली मारकर गंभीर रूप से घायल कर दिया। दो दिन बाद भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं। इधर, मंगलवार को दो नकाबपोश बदमाशों ने चश्मदीद गवाह सुरेंद्र को धमकी दी।

सुरेंद्र ने बताया कि मंगलवार सुबह करीब साढ़े सात बजे बाइक पर दो युवक आए। उनके चेहरे ढके थे। धमकी दी कि इस मामले में गवाही दी तो अंजाम अच्छा नहीं होगा। चेहरा ढका होने के कारण वह उन्हें पहचान नहीं पाया। इसके बाद सुरेंद्र अपने परिजनों के साथ एसपी सुरेंद्र ¨सह भौरिया से मिलने पहुंचा। उन्हें पूरी घटना के बारे में बताया। एसपी ने उन्हें सुरक्षा का आश्वासन दिया।

शहर के लोग बोले, आश्वासन नहीं ठोस एक्शन चाहिए

इधर, लोगों का यकीन पुलिस से कम होता जा रहा है। इसकी बड़ी वजह यह है कि एक ओर तो जहां अपराध तेजी से बढ़ रहे हैं, वहीं दूसरी ओर बदमाशों को पकड़ने में पुलिस नाकाम साबित हो रही है। दो माह में ही देखें तो संगीन वारदातों को पुलिस नहीं सुलझा पाई। लोगों की मांग है कि एसपी हर बार आश्वासन देते हैं, लेकिन एक बार भी उन्होंने अपना आश्वासन पूरा नहीं किया। ऐसे में अब लोगों की मांग है कि उन्हें आश्वासन नहीं सीधा एक्शन चाहिए।

पुलिस की दबिश जारी, बुधवार तक गिरफ्तारी की उम्मीद

गोलीकांड के आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की दबिश जारी है। मंगलवार को भी तीसरे दिन भी पुलिस ने बदमाशों के ठिकानों पर छापामारी की। बताया जा रहा है कि पुलिस के हाथ कुछ अहम सुराग लगे हैं। पुलिस का दावा है कि बुधवार तक आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। इस मामले में सुरेंद्र की शिकायत पर रमेश उर्फ ¨चगारी, भल्ला, खली, प्रदीप, सागर, जोली व अजय के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया था।

कृष्ण की हालत नाजुक, अभी नहीं आया होश

रविवार रात से शहर के निजी अस्पताल में उपचाराधीन कृष्ण की हालत नाजुक बताई जा रही है। परिजनों ने बताया कि उसे मंगलवार को भी होश नहीं आया। डॉक्टरों के अनुसार गोली सिर में लगी है। इसलिए फिलहाल कुछ भी कहना मुश्किल है। उसे होश में आने में अभी समय लग सकता है।

रविवार को दुकान में घुसकर मारी थी गोली

रविवार रात करीब साढ़े आठ बजे शिव कॉलोनी में दुकान में घुसकर बदमाशों ने कृष्ण को गोली मार दी थी। दुकान में कृष्ण के अलावा सुरेंद्र भी मौजूद था। दो गाड़ियों में करीब 15 युवकों के साथ आए रमेश उर्फ ¨चगारी ने कहासुनी के बाद कृष्ण को जान से मारने की धमकी दी। इतना सुनते ही ¨चगारी के भतीजे सागर ने गोली दाग दी। गोली कृष्ण की बायीं आंख के ऊपर माथे लगी। ¨चगारी ने दूसरा फायर किया। लेकिन निशाना चूक गया। दूसरी गोली दुकान की दीवार से जा टकराई। दो बड़ी वारदात : जिन्हें सुलझाने में पुलिस नाकाम

बबली हत्याकांड

29 जुलाई को सुबह 11 बजे अंजनथली गांव की पूर्व सरपंच के पति सुरेश उर्फ बबली (48) की कार से आए चार बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। गोलीबारी में साथ बैठा सुभाष भी घायल हो गया था। मुखबरी के आरोप में पुलिस ने गांव के ही कपिल को गिरफ्तार किया। लेकिन आरोपी आज भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं।

मंदिर हत्याकांड

18-19 अगस्त की रात को मंगलौरा गांव के पास स्थित भाई-बहन मंदिर में अज्ञात हत्यारों ने हमला कर दिया था। उत्तर प्रदेश सीमा के कुछ दूर मंदिर में हत्यारों ने सेवादार और यहां ठहरे पुजारियों व मजदूर सहित पांच लोगों को अपना निशाना बनाया था। दो की मौके पर ही मौत हो गई थी। तीन घायलों में से दो ने भी दम तोड़ दिया है। पुलिस अब तक हत्यारों का सुराग नहीं लगा पाई है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप