साहा (अंबाला), संवाद सहयोगी। अंबाला के गांव महमूदपुर के रहने वाले बलदेव सिंह ने बुधवार को खेत में ही अपनी पत्नी कैलाशो देवी (55) की दरांती से कई वार करके हत्या कर दी और फरार हो गया। महिला ने अपने को बचाने का प्रयास करते हुए संघर्ष किया, लेकिन वह खुद को बचा नहीं पाई। शव को पल्ली (जिसमें घास काटने के बाद बांधा जाता है) में लपेटा और करीब साठ मीटर दूर गन्ने के खेत में फेंक दिया।

प्रारंभिक जांच में सामने आया, फसल खराब होने के कारण परेशान था

इसके बाद गांव में एक व्यक्ति को अपनी पत्नी की हत्या की बात कहकर आरोपित फरार हो गया। स्वजनों की मानें, तो करीब पौना एकड़ जमीन में फसल लगा रखी थी, जो बारिश के कारण खराब हो गई थी। प्रारंभिक जांच में सामने आया है कि आराेपित का फसल खराब होने के कारण परेशान रहता था और कैलाशो देवी से विवाद में उसकी हत्या कर दी। साहा थाना पुलिस  ने मौके से शव को अपने कब्जे में ले लिया और पोस्टमार्टम के लिए नागरिक अस्पताल अंबाला कैंट पहुंचाया। फिलहाल पुलिस ने आरोपित की तलाश शुरू कर दी है।

यह है मामला

कैलाशो देवी के बेटे मनदीप ने बताया कि वे छह भाई बहन हैं। चार की शादी हो चुकी है, जबकि दो अभी अविवाहित हैं। उन्हाेंने बताया कि बुधवार दोपहर को उनके पिता और मां अपने खेत से घास काटकर आए थे। इस दौरान वे दोनों सामान्य थे। दोपहर के बाद वे दोबारा खेत में गए तो काफी देर तक नहीं आए। इसी दौरान गांव के सरपंच से सूचना मिली की उनके पिता बलदेव सिंह ने अपनी पत्नी कैलाशो देवी की हत्या कर दी है। इसकी जानकारी जैसे ही मिली, वे मौके पर पहुंचे, जबकि सरपंच भी खेत के पास ही मौजूद था। पुलिस को इस बारे में जानकारी दे दी, जिसके बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। बताया जाता है कि बलदेव ने हत्या करने के बाद गांव के ही एक व्यक्ति को बताया कि शव खेतों में पड़ा है, जिसके बाद वह  फरार हो गया।

बचाव के लिए कैलाशो देवी ने किया था संघर्ष

पुलिस ने शव बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए नागरिक अस्पताल अंबाला कैंट पहुंचा दिया है। स्वजनों ने बताया कि शव लहुलूहान हालत में है। शव देखकर लगता है कि कैलाशो देवी ने खुद को बचाने के लिए काफी संघर्ष किया है। कैलाशो के हाथों पर जहां काफी गहरे घाव हैं, वहीं गले पर भी कट के गहरे निशान हैं। इन कट के कारण काफी खून बह गया। बलदेव ने भी लगातार कैलाशो पर दरांती से वार किए, जिसके कारण वह बेबस होकर गिर गई। बलदेव ने अपनी पत्नी के शव को पल्ली में लपेट और पास ही कुछ दूरी पर स्थित गन्ने के खेतों में फेंक दिया। पुलिस का मानना है कि हो सकता है कि कैलाशो ने खुद को बचाने के खेतों की ओर चली गई, लेकिन बलदेव वार करने से नहीं हटा और वहीं उसका शव पन्नी में लपेट कर छोड़ा और भाग खड़ा हुआ।

गुस्सैल स्वभाव का है बलदेव

मनदीप ने बताया कि बलदेव काफी गुस्सैल स्वभाव का है। पहले भी कई बार घर में विवाद हुआ था। उसके हाथ में जो भी आता, वह उससे वार कर देता था। हालांकि ऐसी नौबत कभी नहीं आई। लेकिन इस बार तो बलदेव ने कैलाशो देवी की हत्या तक कर दी। उनका कहना है कि फसल खराब हो चुकी थी और हो सकता है कि इसी के चलते कोई विवाद हुआ और उसने अपनी पत्नी की हत्या कर दी।

Edited By: Naveen Dalal

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट