पिपली (कुरुक्षेत्र), संवाद सहयोगी। मामूली कहासुनी में शंकर कालोनी की एक महिला नरवाना ब्रांच नहर में कूद गई। उसको डूबते देख पति उसे बचाने के लिए नहर कूदा। तैरना न जानने के कारण वह भी पानी के तेज बहाव में बह गया। मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने महिला को नहर से बाहर निकाला, मगर तब तक उसकी मौत हो गई थी। उसके बाद नहर में पति की तलाश की। गोताखोर प्रगट सिंह ने नहर से शव बरामद किया। 

पुलिस के मुताबिक शंकर कालोनी निवासी संजीव अपनी पत्नी नीलम के साथ रविवार को गांव झिमरहेड़ी स्थित किसी संत के डेरे में गए थे। वापसी में जब वे लौट रहे थे उनके बीच किसी बात को लेकर कहासुनी हो गई। जब वे बजगावां नहर पुल पर पहुंचे तो वे नहर में धूप बत्ती की राख फेंकने के लिए रुके थे।

इसी दौरान नीलम ने नहर में छलांग लगा दी। नीलम को नहर में बहता देख संजीव करीब आधा किलोमीटर तक नहर के साथ पगडंडी पर दौड़ता रहा। उसने लोगों से मदद के लिए आवाज भी लगाई। बाद में उसने भी नहर में छलांग लगा दी, मगर पानी के तेज बहाव में वह बह गया। ग्रामीणों ने नहर में कूद कर नीलम के शव को निकाल लिया। इसकी सूचना पुलिस को दी। सूचना मिलते ही केयूके थाना पुलिस के एसआइ रामपाल मौके पर पहुंचे और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एलएनजेपी अस्पताल में भेज दिया।

गोताखोर प्रगट सिंह ने नहर से बरामद किया संजीव का शव

पुलिस ने मौके पर गोताखोर प्रगट सिंह को बुलाया। गोताखोर प्रगट सिंह आक्सीजन सिलेंडर के साथ नहर में कूदे और बजगावां नहर पुल से थोड़ी आगे संजीव के शव को बरामद कर लिया। जांच अधिकारी एसआइ रामपाल ने बताया कि पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस मामले में कार्रवाई कर रही है।

Edited By: Anurag Shukla