जागरण संवाददाता, समालखा : जीटी रोड के पानीपत सर्विस लेन पर अनाज मंडी के सामने जलभराव की समस्या बरकरार है। दो से तीन फीट पानी खड़ा है। एसडीएम विजेंद्र हुड्डा और एएसपी पूजा वशिष्ठ ने हाइवे निर्माण कंपनी वेल्सपन और जैक्शन सहित नपा अधिकारियों की मीटिग ली है। निर्माण कंपनी ने पंप से पानी निकासी का भरोसा दिया। दो पंप मौके पर पानी बाहर फेंक रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि गत 16 जुलाई को भी दोनों अधिकारियों ने हाइवे निर्माण कंपनी सहित संबंधित अधिकारियों की मीटिग ली थी। उन्हें जलभराव का हल निकालने कहा था, जो अभीतक संभव नहीं हुआ। मीटिग में निकासी के कई विकल्पों पर भी चर्चा हुई। राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण की ड्राइंग पर भी सवाल उठे। एसडीएम ने रोड निर्माण से पहले निकासी की व्यवस्था नहीं करने पर नाराजगी व्यक्त की।

एएसपी ने निकासी के चल रहे प्रयास पर असंतुष्टि जाहिर की। कंपनी की दलीलों को सिरे से नकार दिया। कंपनी के तत्काल पंप से निकासी की बात पर सभी को राजी होना पड़ा। सर्विस लेन किनारे की आबादी और पूर्वी भाग में बसे शहर की निकासी पर भी चर्चा हुई, जो फिलहाल बेनतीजा रही। नपा के अधिकारी लोगों की समस्या को सही तरीके से नहीं रख सके। जलभराव से फैक्ट्रियों का कामकाज प्रभावित

उद्योगपति राकेश, राजेंद्र, चिनू आदि ने बताया कि बरसात में फैक्ट्रियों के सामने लगातार जलभराव रहने से उनके कामकाज पर व्यापक असर पड़ रहा है। गड्ढे के कारण वाहन चालक माल लेकर आने जाने से मना कर रहे हैं। आर्डर के माल नहीं पहुंच रहे हैं। मिट्टी की खोदाई कर रास्ते को झील बना दिया गया है। नाले सड़क से ऊंचे हैं। पानी निकासी का कोई विकल्प नहीं है। वाहनों के विपरीत दिशा में आवाजाही से हादसे का डर रहता है।

Edited By: Jagran