कुरुक्षेत्र, जागरण संवाददाता। स्वास्थ्य विभाग अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव में आने वाले कलाकारों और पर्यटकों के स्वास्थ्य का ख्याल रखेगा। इसके लिए विभाग ने जाट धर्मशाला में अस्थाई अस्पताल स्थापित किया है, जबकि एक ओपीडी ब्रह्मसरोवर तट पर बनाई गई है। इसके अलावा दो मोबाइल टीमें बनाई गई है, जो बीमार या दुर्घटनाग्रस्त मरीज की जान बचाने के लिए तुरंत मौके पर पहुंचेगी और उसे अस्पताल में उपचार के लिए शिफ्ट करेगी। इसके लिए आठ चिकित्सकों समेत, 15 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है। इस टीम पर नजर रखने के लिए डिप्टी सिविल सर्जन डा. आरके सहाय को नोडल अधिकारी बनाया गया है।

अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव में दो जगह होंगे कोरोना टेस्ट

कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर स्वास्थ्य विभाग अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव में भी सतर्कता बरतेगा। इसलिए महोत्सव में दो जगहों पर कोविड-19 टेस्ट के लिए ही सैंपलिंग की जाएगी। बाहर से आने वाले पर्यटक ब्रह्मसरोवर तट स्थित टेस्टिंग लैब और जाट धर्मशाला में टेस्टिंग करा सकेंगे। इसके साथ ही दो टीमें कोरोना से बचाव का टीका लगाने के लिए भी तैनात की जाएगी। महोत्सव में आने वाला कोई भी पर्यटक कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण करा सकता है। इसके लिए एक वैक्सीनेशन सेंटर जाट धर्मशाला तो दूसरे को ब्रह्मसरोवर तीर्थ पर तैयार किया गया है।

चिकित्सकों समेत 28 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई : डा. आरके सहाय

नोडल अधिकारी डिप्टी सिविल सर्जन डा. आरके सहाय ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव पर आठ चिकित्सकों की ड्यूटी लगाई गई है। चिकित्सकों के साथ पांच फार्मासिस्ट, आठ चतुर्थश्रेणी कर्मचारियों, पांच एंबुलेंस चालक और दो एमरजैंसी मेडिकल टेक्नीशियन की ड्यूटी लगाई गई है। मरीजों को शिफ्ट करने के लिए दो एंबुलेंस टीम बनाई गई है जो मेला क्षेत्र में ही तैनात रहेगी। एक सूचना पर ये मोबाइल टीमें मरीजों को अस्पताल में शिफ्ट करने का काम करेंगी। अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव में आने वाले पर्यटकों को कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीनेशन कराने के लिए भी जागरूक किया जाएगा।

Edited By: Anurag Shukla