करनाल, जेएनएन। पिछले तीन दिन से आसमान में बादल छाने और बूंदाबांदी के बार मौसम साफ हो गया है। मौसम साफ होने से किसानों ने राहत की सांस ली है। क्योंकि अभी मंडियां गेहूं से अटी हुई और खेतों में फसल कटाई का कार्य जोरों पर है। अभी तक गेहूं का सीजन 50 प्रतिशत पूरा हुआ है। ऐसे में बड़ी मात्रा में गेहूं खेतों में खड़ी है।

दूसरी ओर चिंता की बात यह है कि मौसम विभाग ने फिर मौसम खराब होने के संकेत दिए हैं। विभाग ने 19 अप्रैल को बादल छाने और 20 अप्रैल को बरसात होने की संभावना जारी की है। जबकि 21 अप्रैल को भी आसमान में बादल रह सकते हैं। हालांकि मौसम में आए बादल से तापमान जरूर नीचे लुढ़क गया है। चार दिन पहले जहां तापमान 40 डिग्री को पार गया था, वहीं अब तापमान 35 डिग्री के आसपास चल रहा है। रविवार को करनाल में अधिकतम तापमान 33.5 डिग्री रहा और न्यूनतम तापमान 16.8 डिग्री रहा। तापमान में गिरावट आने से लोगों ने जरूर गर्मी से राहत ली है, लेकिन बदलता मौसम किसानों की चिंताएं बढ़ा रहा है।

किसानों की चिंता फिर से गहराई

पिछले तीन दिन से मौसम खराब होने से किसानों के चेहरे मायूसी आ गई थी। लेकिन, यह शुक्र रहा कि आसमान में घने बादल छाने के साथ बरसात ज्यादा नहीं हुई। शुक्रवार की रात को जरूर कुछ देर के लिए बूंदाबांदी हुई, लेकिन तेज हवाओं के चलते बादल आगे की ओर से खिसक गए। इसके बाद शनिवार की सुबह फिर आसमान में घने बादल छा गए थे। गनीमत रही कि हल्की बूंदें गिरने के बाद मौसम फिर साफ हो गया। अब मौसम विभाग ने 20 अप्रैल को बरसात की संभावना जारी की है। इससे किसान गेहूं की फसल खराब होने को लेकर चिंतित हैं।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ेंः आपसे जुड़ी है खबर, कोरोना संक्रमण से फलों की मांग बढ़ी, आपूर्ति कम होने से भाव तेज

यह भी पढ़ेंः कोरोना का कहर... कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में 30 अप्रैल तक के लिए ऑफलाइन कक्षाएं बंद

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप