कैथल, जागरण संवाददाता। बसों में यात्रियों के सफर को सुविधाजनक बनाने के लिए रोडवेज चालक और परिचालकों को अब प्रशिक्षण मिलेगा। रोडवेज विभाग के साथ मिलकर निजी कंपनी द्वारा यह प्रशिक्षण प्रोग्राम आयोजित होगा। बता दें कि इस प्रशिक्षण का मुख्य उद्​देश्य बसों में सफर करने वाले यात्रियों को सुरक्षि़त सफर करवाना है। ताकि बसों में सफर के दौरान यात्रियों को किसी प्रकार की परेशानी न आए। इस दौरान अप्रिय घटना से निपटने के विशेष गुर भी सिखाए जाएंगे। सात- सात दिन का प्रशिक्षण कैंप लगाया जाएगा। शिफ्टों में प्रशिक्षण दिया जाएगा, ताकि बसें भी रूटों पर सुचारू रूप से चले। यात्रियों को भी सफर में परेशानी न रहे।

ये दिया जाएगा प्रशिक्षण

प्रशिक्षण के माध्यम से चालक व परिचालक को बस में यात्री को कैसे चढ़ाया जाए, कैसे उतारा जाए, सीट कैसे उपलब्ध करवाई जाए, कितने यात्री एक बस में होने चाहिए, यात्रियों से कैसा व्यवहार करना, यात्रियों से बात करने का तरीका, महिलाओं की सुरक्षा बसों में कैसे रखें, चालक व परिचालक लंबे सफर में पानी का प्रबंध रखें, चालक व परिचालक ड्यूटी के दौरान तनाव से कैसे बचे। ट्रैफिक सिग्नल को चालक कैसे पार करें।

रोडवेज महाप्रबंधक अजय गर्ग ने बताया कि यात्रियों को बसों में सफर करते समय किसी प्रकार की परेशानी न आए। इसको लेकर रोडवेज के चालक व परिचालकों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। शिष्टाचार व सही व्यवहार से बातचीत करने के लिए एक सप्ताह का प्रशिक्षण दिया जाएगा। कैथल के 257 चालक व 187 परिचालकों को प्रशिक्षण मिलेगा।

चालक व परिचालक के व्यवहार को लेकर यात्री करते है शिकायत

बता दें कि यात्रियों की तरफ से चालक व परिचालकों के ठीक व्यवहार न करने की शिकायत उच्चाधिकारियों के पास आती रहती है। प्रशिक्षण के बाद इन शिकायतों में भी कमी आएंगी। चालक व परिचालक का यात्री के प्रति व्यवहार बदलेगा। बुर्जगों की सबसे ज्यादा व्यवाहर को लेकर शिकायत आ रही थी, अब यात्रियों को भी फायदा मिलेगा। रोजाना कैथल डिपो से 15 हजार के करीब यात्री रोडवेज बसों में सफर तय करते है।

Edited By: Anurag Shukla