पानीपत, जागरण संवाददाता। कोरोना की तीसरी लहर का खतरा बढ़ता जा रहा है। मंगलवार को सिविल अस्पताल के प्रिंसिपल मेडिकल आफिसर (पीएमओ), उप चिकित्सा अधीक्षक, कोरोना वैक्सीनेशन के नोडल अधिकारी सहित आठ डाक्टर कोरोना पाजिटिव मिले हैं। एक दिन में कुल 229 संक्रमित मिले हैं। एक से 17 साल आयु के 13 बच्चे-किशोर शामिल हैं।

उधर, कनाडा से लौटे व्यक्ति की दूसरी रिपोर्ट भी पाजिटिव है। सिविल अस्पताल के नेत्र सर्जन, गैर संचारी रोग ओपीडी की मेडिकल आफिसर, काबड़ी पीएचसी में मेडिकल आफिसर, बतरा कालोनी पीएचसी की मेडिकल आफिसर भी कोरोना पाजिटिव मिले हैं। इससे पहले अस्पताल के दंत रोग चिकित्सक, उनकी डाक्टर पत्नी, हड्डी रोग विशेषज्ञ, टीबी नियंत्रण प्रोग्राम के नोडल अधिकारी, सहित कई डाक्टर विगत आठ दिनों के भीतर पाजिटिव मिल चुके हैं।कोविड-19 के जिला नोडल अधिकारी डा. सुनील संडूजा ने बताया कि तीसरी लहर में एक से 11 जनवरी तक 865 मरीज कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं।

मंगलवार की शाम तक 4.86 लाख 182 लोगों की कोरोना जांच रिपोर्ट मिल चुकी है। इनमें से पाजिटिव मिले 31 हजार 905 केसों में से 30 हजार 541 रिकवर हो गए हैं। 722 केस एक्टिव हैं और 642 मरीज दम तोड़ चुके हैं। कोरोना की तीसरी लहर बच्चों-किशोरों को भी खूब सता रही है।

पाजिटिव केसों की स्थिति

722 एक्टिव केस

432 होम आइसोलेशन में

16 निजी अस्पतालों में भर्ती

03 अन्य अस्पताल में भर्ती

271 मरीज होम आइसोलेशन के लिए विचारणीय

इन कालोनियों में अधिक मिले केस

36 केस सेक्टर 11-12

21 केस माडल टाउन एरिया

12 केस रिफाइनरी टाउनशिप

08 एल्डिको

07 सेक्टर-18

कनाडा से लौटे व्यक्ति का लिया सैंपल

एल्डिको वासी 31 दिसंबर को कनाडा से लौटा था।उसकी रिपोर्ट कोरोना पाजिटिव थी। आठवें दिन मरीज ने एक निजी लैब में जांच कराई तो मंगलवार को रिपोर्ट पाजिटिव मिली। डा. संडूजा ने बताया कि हमारी टीम ने भी मरीज का सैंपल लेकर लैब में भेजा है। रिपोर्ट पाजिटिव आती है तो जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए सैंपल दिल्ली भेजा जाएगा।

11 दिनों में 405 बच्चे-किशोर मिले संक्रमित

तारीख 17 साल तक के पाजिटिव 17 से 35 साल के पाजिटिव

01 जनवरी 01 04

02 जनवरी 00 05

03 जनवरी 02 06

04 जनवरी 01 09

05 जनवरी 03 10

06 जनवरी 06 31

07 जनवरी 07 37

08 जनवरी 08 54

09 जनवरी 05 62

10 जनवरी 06 63

11 जनवरी 13 75

वर्चुअल बैठक में निजी चिकित्सकों को दिए निर्देश

-कोविड-19 गाइडलाइन की पालना कराई जाए।

-चिकित्सक, पैरामेडिकल स्टाफ सावधानी से ड्यूटी करे।

-कोरोना जैसे लक्षण वाले मरीज को दूसरों से अलग रखें।

-मरीज की रिपोर्ट पाजिटिव आने पर स्वास्थ्य विभाग को सूचना दें।

-विदेश से लौटे मरीज की स्वास्थ्य विभाग को सूचना दें।

-रेट लिस्ट चस्पा करें, मरीज को इलाज खर्च बताएं।

-टेस्ट सहित अन्य रेट निर्धारित से अधिक न लें।

-आयुष्मान भारत के पात्र मरीज को सिविल या पैनल अस्पताल में भेजें।

-दवा-उपकरण की कमी दिखाकर मरीजों को न भड़काएं।

Edited By: Anurag Shukla