कुरुक्षेत्र, [जगमहेंद्र सरोहा]। अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव (आइजीएम) काे लेकर एक और अध्याय धर्मक्षेत्र कुरुक्षेत्र के नाम लिखा जाएगा। महोत्सव का कार्यक्रम पहली बार आयोजन स्थल ब्रह्मसरोवर से लांच किया जाएगा। मुख्यमंत्री मनोहर लाल एक दिसंबर को इसकी घोषणा करेंगे। इससे पहले दिल्ली और चंडीगढ़ से इसकी घोषणा की जाती थी। इसके अगले दिन ही 18 दिवसीय अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव का क्राफ्ट मेले के साथ आगाज हो जाएगा।

अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव दो दिसंबर को शुरू होगा और 19 दिसंबर तक चलेगा। मुख्य आयोजन नौ से 14 दिसंबर को होंगे। इसको लेकर प्रशासन और कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड तैयारियों में लगा हुआ है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ब्रह्मसरोवर के पुरुषोतमपुरा बाग में एक दिसंबर को कार्यक्रम की घोषणा करेंगे। यहां से देश व दुनिया के लोगों को अंतराष्ट्रीय गीता महोत्सव के लिए आमंत्रित करेंगे। इससे पहले 2016 में दिल्ली में लाल किला से कार्यक्रम की घोषणा की गई थी। 2017 और 18 में भी लाल किला से घोषणा की गई थी। 2019 में चंडीगढ़ से इसकी घोषणा की गई थी। पिछले साल कोरोना के चलते छोटे स्तर पर आयोजन किया गया था।

कई देशों के राजदूत और पर्यटक पहुंचेंगे

अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव इस बार कोरोना का प्रभाव कम होने के बाद व्यापक स्तर पर बनाया जाएगा। हालांकि क्राफ्ट मेले में पंडालों की संख्या घटाकर आधी की गई है। इस बार 350 पंडालों लगाए जाएंगे। इसके साथ सांस्कृतिक कार्यक्रम महोत्सव में आकर्षण का केंद्र रहेंगे। क्राफ्ट मेले में ट्यूनिशिया सहित कई देशों के क्राफ्ट शामिल होंगे। महोत्सव में भी कई देशों के राजदूतों को निमंत्रण दिया गया है। कनाडा और इंग्लैंड सहित कई देशों के पर्यटक इस बार भी आइजीएम का गवाह बनेंगे।

अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव की घोषणा हर बार दिल्ली या चंडीगढ़ से की जाती है। इस बार कुरुक्षेत्र में आयोजन स्थल से इसकी घोषणा की जाएगी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल का एक दिसंबर को आने की चर्चाएं हैं। कार्यक्रम अभी बन नहीं पाया है। सीएम हाउस से इसकी पुष्टि जल्द ही की जाएगी।

मदन मोहन छाबड़ा, मानद सचिव, केडीबी

Edited By: Anurag Shukla