जागरण संवाददाता, समालखा :

गुरुद्वारा नानक दरबार साहिब मॉडल टाउन संगत की ओर से गुरू नानक देव के 550वें प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में प्रभातफेरी निकाली। यह कस्बे से जीटी रोड स्थित 70 माइल स्टोन ढाबा के पास तक गई। फूल बरसा कर संगत का स्वागत किया गया। गुरमुख सिंह ने नाम मिले ताजीबा नानक नाम मिले, सबसे बड़ा सतगुरु नानक जिनकर राखी मेरी आदि गुरुबाणी के शब्दों से लोगों को निहाल किया। गुरुद्वारा कमेटी के प्रधान जगतार सिंह बिल्ला ने कहा कि गुरू नानक देव केवल सिखों के गुरु ही नहीं, जगत के गुरु थे। उनकी शिक्षा मानव मात्र के लिए कल्याणकारी थी। उनका सर्वधर्म समभाव में विश्वास था। उन्होंने जीवनभर मानव सेवा के लिए काम किया। पाखंड से दूर रहे। नारियों की रक्षा के लिए लड़ाई लड़ी। इस अवसर पर मनु सिंह, जीवन सिंह, जितेंद्र सिंह, राजेश शर्मा, अमनदीप सिंह, सोनू और सौरभ मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप