पानीपत/करनाल, जेएनएन। नए साल के शुरुआती दौर में कर्णनगरी के रेल यात्रियों को अहम सौगात मिली है। यह स्थिति करनाल से यमुनानगर रेलवे लाइन परियोजना को सैद्धांतिक सहमति मिलने से बनी है। काफी समय से प्रतीक्षित इस प्रोजेक्ट के तहत अब रेल के जरिए यमुनानगर के मार्फत उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों की राह आसान हो जाएगी।  

हाल में प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहरलाल ने हरियाणा में रेल से संबंधित विभिन्न परियोजनाओं को लेकर केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल के साथ मुलाकात की। इस दौरान जिन छह प्रोजेक्ट को लेकर रेल मंत्री से चर्चा हुई, उनमें करनाल यमुनानगर रेलवे लाइन परियोजना भी शामिल है। लंबे इंतजार के बाद आखिरकार इसे सैद्धांतिक मंजूरी मिल गई है। हरियाणा रेल इन्फ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड के इस प्रोजेक्ट के तहत करनाल-यमुनानगर के बीच 61 किलोमीटर नई रेल लाइन बिछाने की तैयारी है।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

रेल मंत्रालय और हरियाणा सरकार ने 2019 में ही इस प्रोजेक्ट के विस्तृत सर्वेक्षण का कार्य  के आधार पर विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) पूरी करके रेल मंत्रालय को सौंप दी गई थी। इससे पहले प्रदेश सरकार से भी मंजूरी ली गई। अब रेल मंत्रालय के स्तर से इस परियोजना को सैद्धांतिक सहमति मिलने के साथ ही नई रेल लाइन के निर्माण को गति मिलेगी और लोगों की लंबे समय से चली आ रही मांग पूरी होगी। राज्य सरकार की मंजूरी के बाद इन परियोजना की डीपीआर रेल मंत्रालय को सौंप दी गई है। परियोजना की लागत राज्य सरकार और रेल मंत्रालय के बीच सांझा की जाएगी। रेलवे लाइन पर करीब 1173 करोड़ रुपये की राशि खर्च होगी।

बनेंगे पांच स्टेशन, बेहतर होगी कनेक्टिविटी

प्रस्तावित परियोजना के तहत रेलवे स्टेशनों से लेकर अन्य सभी प्रकार के निर्माण का खाका तैयार किया गया है। इसके अनुसार करनाल-यमुनानगर रेल लाइन को दिल्ली-अंबाला रेलवे लाइन स्थित भैणी-खुर्द स्टेशन और अंबाला-सहारनपुर रेलवे लाइन स्थित जगाधरी वर्कशॉप स्टेशन से जोड़ा जाएगा। इस लाइन पर पांच नए रेलवे स्टेशन रंभा, इंद्री, लाडवा, रादौर और दामला होंगे। इस लाइन के निर्माण से करनाल और यमुनानगर सरीखे हरियाणा दो प्रमुख औद्योगिक शहरों के बीच सीधी व बेहतर कनेक्टिविटी होगी। दोनों स्थानों के बीच यात्रा की दूरी भी 50 किलोमीटर कम हो जाएगी। इतना ही नहीं, यह पूरा प्रोजेक्ट रेल यात्रियों को हरिद्वार और देहरादून सहित कई राज्यों के रेल यात्रियों को अब सीधी कनेक्टिविटी प्रदान करेगा। क्षेत्र में ऐसी मांग लंबे समय से की जा रही थी। नई रेल लाइन से औद्योगिक और कृषि क्षेत्र में आर्थिक विकास में मदद मिलेगी। करनालवासी काफी समय से इस मांग को सिरे चढ़ाने के लिए लगातार प्रयास कर रहे थे। अब यह सपना जल्द पूरा होने की उम्मीद है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप