दीपक बहल, अंबाला : ऑल इंडिया रेलवे फेडरेशन और रेलवे के अफसर आमने-सामने आ गए हैं। इसकी वजह बना है एक ऑडियो। आरोप है कि यूनियन के नेता ने एक महिला कर्मचारी का तबादला रुकवाने के लिए सीनियर डीसीएम को फोन पर धमकाया और कहा कि तुम्हारे जैसे कई सीनियर डीसीएम देखे हैं। तुम्हे पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे (एनएफ रेलवे) भिजवाऊंगा। तुम मुझे जानते नहीं हो। मामला यहीं नहीं थमा। यूनियन नेता बीसी शर्मा ने कहा कि तेरा जनाजा निकालूंगा मैं।

इस पर सीनियर डीसीएम हरिमोहन ने आपत्ति जताई तो यूनियन नेता ने कहा कि तुम कौन होते हो मुझे अनुशासन सिखाने वाले। यह मामला आग की तरह रेलवे अफसरों में फैल गया। इसके बाद 23 अफसरों ने हस्ताक्षर कर इस पूरे मामले पर आपत्ति जताई व मामला जीएम के सामने रखा। यह मामला रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी तक भी पहुंच चुका है। अब रेलवे अफसरों ने यूनियन से कोई बैठक नहीं करने का फैसला कर लिया है। पंजाब पुलिस तक मामला पहुंच गया  है। पुलिस ने शिकायत पर जान से मारने की धमकी और सरकारी काम में बाधा डालने के आरोप में केस दर्ज कर लिया है।

जालंधर पार्सल में कार्यरत एक महिला कर्मचारी का तबादला वर्ष 2012 में फगवाड़ा रेलवे स्टेशन पर कर दिया गया था। यहां पर महिला कर्मी को अनरिजर्व टिकट सर्विस (यूटीएस) में लगाया गया था। मार्च 2017 में एक बार फिर महिला कर्मचारी का तबादला उनके प्रार्थना पर फगवाड़ा में ही गुड्स आफिस में कर दिया गया। बताते हैं कि एक ही सीट पर लंबी पोस्टिंग होने के कारण तबादला कहीं और न हो जाए इसलिए महिला कर्मी ने गुड्स आफिस में ही तबादला कराना उचित समझा था।

इस तरह बढ़ गया विवाद

मार्च 2017 में तबादला तो हो गया लेकिन कॉमर्शियल विभाग ने महिला को रिलीव नहीं किया था, जिससे गुड्स आफिस का काम प्रभावित होना शुरू हो गया था। जब भी गुड्स आफिस में काम होता था तो कॉमर्शियल इंस्पेक्टर अन्य दो कर्मचारियों की ड्यूटी वहां लगा देता था। बुधवार को दोनों कर्मचारी छुट्टी पर थे और ऐसे में स्टाफ का संकट पैदा हो गया। महिला कर्मी को गुड्स आफिस में कार्य करने के लिए हिदायत दी गई लेकिन ज्वाइन नहीं किया। इसी बीच, मामला यूनियन तक पहुंचा व यूनियन ने इस संबंध में सीनियर डीसीएम से फोन पर बातचीत की। इसके बाद मामला तूल पकड़ गया। सीनियर डीसीएम व यूनियन नेता के बीच की बातचीत को आफिस एसोसिएशन व आलाधिकारियों से साझा की, जिसके बाद यह सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।

harimohan railway

हरिमोहन।

कॉमर्शियल विभाग में बना हुआ माफिया गैंग

फिरोजपुर के सीनियर डीसीएम हरिमोहन ने दैनिक जागरण से बातचीत में बताया कि इस मामले बारे आला अफसरों को अवगत करा दिया गया है। जो अधिकारी बढिय़ा काम करना चाहता है, उसे इस तरह से परेशान किया जाता है। यहां पर कॉमर्शियल विभाग में माफिया गैंग बना हुआ है, जो दस से पंद्रह साल से बैठे हुए हैं। यह सभी यूनियन से किसी न किसी तरीके से वास्ता रखते हैं। इसे वह तोडऩे के प्रयास कर रहे हैं तो उन्हें धमकाया जा रहा है। तबादला कराने की नहीं बल्कि जनाजा निकालने की भी धमकी दे रहे हैं। नियम के मुताबिक काम किया जाएगा।

bc sharma railway

बीसी शर्मा।

मेरे सामने कल का बच्चा है

यूआरएमयू के महासचिव बीसी शर्मा ने कहा कि महिला कर्मचारी का गुड्स में तबादला कर दिया गया है, जहां रात तक की उनकी शिफ्ट है। चेकिंग स्टाफ में भी महिला कर्मियों व अन्य स्टाफ को सीनियर डीसीएम ने आदेश दिए हैं कि वह जहां चेकिंग करे, फोटो को वाट़सएप पर पर डाले। इन आदेशों से महिला स्टाफ के फोटो का दुरुपयोग हो सकता है। अभद्र भाषा की आडियो वायरल होने पर शर्मा का कहना था कि वह कहीं भी भेज दें, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। सीनियर डीएसीएम तो उनके सामने बच्चा है।

 

Posted By: Ravi Dhawan