पानीपत, जेएनएन। गोयल दंपती की भले ही इस लापरवाह सिस्टम ने जान ले ली हो, लेकिन वे समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी को पूरा कर गए। उनकी आंखों की अब चार लोगों की जिंदगी रोशन हो सकती है। उनके परिवार वालों ने गौरव गोयल और डॉ. रंजना गोयल की आंखें दान कीं। इसके लिए समाजिक संस्थाओं ने उन्हें श्रद्धाजंलि अर्पित की। 

समाज सेवी गौरव गोयल और उनकी पत्नी डॉ. रंजना गोयल का शव लाडवा पहुंचा। अंतिम संस्कार के वक्त काफी संख्या में लोग मौजूद थे। वहीं इससे पहले  लाडवा के नेत्रदान समिति और करनाल के माधव नेत्र बैंक के विशेषज्ञों ने दोनों के नेत्र को सुरक्षित किया। 

 ये भी पढ़ें- Delhi-Chandigarh Highway पर चलती कार पर गिरी मौत, कट गई गर्दन

ये था मामला
पेट्रोल पंप मालिक व समाजसेवी गौरव गोयल और अपनी पत्नी डॉ. रंजना गोयल के साथ स्वीडन में अपनी बेटी से मिलने के लिए गए थे। सोमवार को दंपती अपनी कार में दिल्ली से लाडवा आ रहे थे। इसी दौरान पानीपत में एक ट्रैक्टर ट्राली से गार्डर गिरकर उनकी कार में जा घुसा। इस हादसे में दोनों की मौत हो गई।  

ये भी पढ़ें- मां के निधन के बाद स्‍वीडन बेटी के पास गए थे गोयल दंपती, फिर ऐसे मौत खींच लाई यहां

गौरव के पिता ने भी किया था नेत्रदान
लाडवा में नेत्रदान करने की परंपरा पेट्रोल पंप व्यापारी गौरव ने की थी। उन्होंने लाडवा में सबसे पहले अपने पिता के नेत्रदान कराए थे। इसके बाद उन्हें देखकर कई लोग आगे आए थे। उन्होंने व उनकी पत्नी ने भी नेत्रदान किए हुए थे। हादसे में मरने की सूचना मिलते ही परिजनों ने नेत्र लेने वाली टीम को सूचित किया और टीम ने उनके नेत्र सुरक्षित कर लिए। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Anurag Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप