पानीपत/अंबाला, जेएनएन। अमेरिका जाने की चाह में एक युवक ने जहां 35 लाख रुपये गंवा दिए वहीं पांच देशों में जेल भी काटी। ग्वाटेमाला में ढाई महीने जेल नजरबंद रहा, जबकि अमेरिका में करीब नौ माह जेल में रहा। शातिरों को 35 लाख रुपये देने के लिए बैंक से मकान पर ऋण लिया और किस्त नहीं जमा करवा पाया। अब बैंक ने भी मकान के बाहर नीलामी का नोटिस चस्पा कर दिया है। पुलिस ने भी छह माह तक पीडि़तों की शिकायत तक दर्ज नहीं की। अब पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है। 

यह है मामला 
गुरमेल कौर ने कहा कि उनके परमजीत को अमेरिका भेजने के लिए बराड़ा निवासी सुरजीत सिंह, मोहनजीत सिंह व एक महिला से बातचीत हुई। तीनों लोग उनके बराड़ा स्थित आफिस में 20 अगस्त 2017 को मिला। 26 अगस्त 2017 को उक्त लोगों ने पीडि़त से एक लाख रूपया व पासपोर्ट ले लिया और महज दो दिन बाद ही वीजा लगवाकर जहाज की टिकट थमा दी। परमजीत सिंह मास्को व पनामा से डिपोर्ट होकर 31 अगस्त 2017 को वापिस दिल्ली भी आ गया। इसके बाद दोबारा जब उसे वापस अमेरिका के लिए भेजा गया तो फिर परमजीत के लिए इस कदर परेशानियां सामने आई कि पांच देशों में उसे जेल तक काटनी पड़ी। 

गुरूदेव मोहल्ला वासी गुरमेल कौर ने बेटे परमजीत को अमेरिका भेजने की एवज में धोखाधड़ी करने की शिकायत थाना में दी थी। दोनों पक्षों को बुलाया गया था। दोनों पक्षों ने आपसी सहमति करने के लिए 2 दिन का समय मांगा था। अब उन्हें दोबारा मंगलवार को बुलाया गया है। मंगलवार को ही आगामी कार्रवाई की जाएगी। 
- राज सिंह, डीएसपी नारायणगढ़

Posted By: Anurag Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप