कैथल, जेएनएन। जमीन के जाली दस्तावेज तैयार करके बैंक से लाखों रुपये का लोन लेकर धोखाधड़ी करने के आरोप में दो किसानों के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। एक किसान पर 16 लाख रुपये और दूसरे पर 10 लाख रुपये की ठगी का मामला दर्ज हुआ है। 

पहले मामले में जमीन के फर्जी कागजात तैयार कर बैंक से 16 लाख रुपये का लोन लेकर धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। इस मामले में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया आहूं के बैंक मैनेजर धर्मेंद्र कुमार ने ढांड थाने में शिकायत दी है। शिकायत पर गांव थरोटा निसिंग निवासी कंवलजीत सिंह के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। आरोपित ने साल 2014 में जमीन के फर्जी कागजात तैयार करवाकर बैंक से 16 लाख रुपये का लोन लिया था। आरोपित ने पैसे नहीं भरे तो उसकी जमीन को बेचने की कार्रवाई शुरू की गई। उसमें पता चला कि आरोपित ने फर्जी कागजात तैयार करवाए हुए थे। जांच अधिकारी कृष्ण लाल ने बताया कि पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

दस लाख रुपये की धोखाधड़ी के आरोप में किसान पर केस दर्ज

कैथल : दूसरे मामले में बैंक से दस लाख रुपये का लोन लेकर धोखाधड़ी करने के आरोप में ढांड थाना पुलिस ने एक किसान के खिलाफ केस दर्ज किया है। इस मामले में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया आहूं के अधिकारी धर्मेंद्र कुमार ने शिकायत दी है। शिकायत में बताया कि हजवाना निवासी रामेश्वर ने 2014 में बैंक से किसान क्रेडिट कार्ड पर दस लाख रुपये का लोन लिया था। उसके बाद आरोपित ने बैंक से लिया हुआ लोन वापस नहीं किया।

2012 में दूसरे बैंक से लिया था लोन

आरोपित ने 60 कनाल कृषि भूमि पर दस लाख रुपये का लोन लिया था। जब भूमि नीलाम करने के लिए आरोपित के कागजात देखे तो पता लगा कि उसने साल 2012 में भी किसी दूसरे बैंक से लोन लिया हुआ था और उसे भरा भी नहीं गया था। जांच अधिकारी राजेंद्र सिंह ने बताया कि पुलिस ने रामेश्वर के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

Edited By: Umesh Kdhyani