पानीपत/अंबाला, [दीपक बहल]। अंबाला शहर विधानसभा सीट से कद्दावर नेता रहे एवं लगातार तीन बार विधायक बने मास्टर शिव प्रसाद के बेटे अनिल कुमार सहित चार लोगों को होटल व्यवसायी पर फायरिंग प्रकरण में सीआइए स्टाफ ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार किए गए आरोपित अनिल कुमार के अलावा जितेंद्र, देवेंद्र उर्फ टीटू और रोहित उर्फ मोनू को सोमवार को कोर्ट में पेश कर पुलिस रिमांड लिया जाएगा। पुलिस के अनुसार इन आरोपितों ने ही जमीनी विवाद के कारण राजेश की हत्या के लिए सुपारी दी थी। 

बता दें कि अंबाला शहर के ग्रेंड होटल के मालिक व सेक्टर सात निवासी राजेश आहलुवालिया की हत्या के लिए 10 लाख रुपये की सुपारी दी गई थी। इसमें से करीब साढ़े तीन लाख रुपये एडवांस में दिए गए। सुपारी किलर एवं गैगस्टर सुखविंद्र उर्फ मोनी ने लुधियाना से अपने साथी दर्पण सिंगला के साथ बाइकपर आकर 6 दिसंबर 2019 को शहर के सिटी प्लाजा के पास बीच रास्ते रोककर राजेश आहलुवालिया पर गोलियां चलाई थीं। एक गोली खोपड़ी को टच करते हुए राजेश की सेंट्रो कार पर जा लगी। गोली लगने के बाद लहूलुहान राजेश को शहर के नागरिक अस्पताल से चंडीगढ़ पीजीआइ रेफर कर दिया गया था।  कई दिन के बाद वह होश में आए।

हरिद्वार में गिरफ्तारी के बाद सुराग लगे हाथ

लुधियाना के जवाहर नगर कैम्प हरजिंद्र कुमार उर्फ जिंदी की गोलियां मारकर हत्या करने वाले आरोपित सुखविंद्र सिंह उर्फ मोनी पर पंजाब पुलिस ने एक लाख रुपये का इनाम रखा था। इस हत्याकांड की लुधियाना पुलिस जांच कर रही थी कि इसी बीच सुखविंद्र सिंह उर्फ मोनी को उसके साथी सहारनपुर निवासी सुमित कुमार उर्प चोटी के साथ हरिद्वार में गिरफ्तार कर लिया गया। दोनों आरोपितों के कब्जे से लूटी हुई गाड़ी, चोरी की बाइक, दो पिस्टल, सात रौंद, फर्जी नंबर प्लेंटे और नकदी बरामद हुई थी। पंजाब पुलिस आरोपित मोनी को लुधियाना प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आई तो पूछताछ में आरोपित ने माना कि अंबाला शहर में होटल व्यवसायी पर फायरिंग की थी। इसके बाद अंबाला पुलिस को सुराग मिले और रविवार को चार आरोपितों को अंबाला से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस अब सुपारी किलर सुखविंद्र उर्फ मोनी को लुधियाना से प्रोडक्शन वारंट पर लाकर पूछताछ करेगी। सुखविंद्र सिंह उर्फ मोनी के खिलाफ अलग-अलग राज्यों में हत्या, हत्या की कोशिश, डकैती और आम्र्स एक्ट के करीब 12 मुकदमे दर्ज हैं। 

पूर्व विधायक के बेटे ने जुटाए रुपये

सीआइए स्टॉफ वन की पूछताछ में पर्दाफाश हुआ कि पूर्व विधायक के बेटे अनिल कुमार और राजेश आहलूवालिया के बीच दो दुकानों को लेकर मामला कोर्ट में विचाराधीन था। इसी प्रकार देवेंद्र और जितेंद्र की एक-एक दुकान का मामला भी कोर्ट में विचाराधीन था। ऐसे में इन लोगों ने राजेश की हत्या की योजना बनाई और सुपारी दे दी। इसके लिए अनिल ने भी रुपये एकत्रित किए। इस पूरे मामले का मास्टर माइंड देवेंद्र बत्तरा था। इन लोगोंं का मानना था कि राजेश की हत्या के बाद दुकानों को लेकर चल रहे विवाद की कोर्ट मेंं कोई पैरवी नहीं करेगा। इन लोगों ने सुपारी किलर सुखविंद्र उर्फ मोनी से लिंक निकाला और सुपारी दे दी। चार आरोपितों से पूछताछ जारी है। इसके अलावा सीआइए मोनी को जहां प्रोडेक्शन वारंट पर लाकर पूछताछ करेगी वहीं दर्पण सिंगला को गिरफ्तार करेगी।

गुत्थी सुलझा ली है : एसपी

एसपी अभिषेक जोरवाल ने कहा कि इस मामले की गुत्थी सुलझा ली गई है। 

पूछताछ जारी है : इंस्पेक्टर केवल सिंह

सीआइए वन स्टाफ के इंस्पेक्टर केवल सिंह ने कहा कि राजेश आहलूवालिया पर गोली चलाने के मामले में चार आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इन आरोपितों को सोमवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा और रिमांड की मांग की जाएगी। उनका कहना था कि इस ब्लाइंड गोली कांड का मामला जमीनी विवाद से जुड़ा हुआ है जिसको लेकर  इनसे पूछताछ जारी है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि पंजाब में गिरफ्तार सुखविंद्र सिंह उर्फ मोनी ने गोली चलाई थी जिसे पूछताछ के लिए प्रोडेक्शन वारंट पर अंबाला लाएंगे। 

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस