कुरुक्षेत्र, जेएनएन। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उत्तर प्रदेश के कस्बा शामली के एक गांव में गर्भ में भ्रूण लिंग जांच करने का भंडा फोड़ा किया है। इसमें गिरोह के दो सदस्यों को कुरुक्षेत्र की वर्धमान सिटी के पास से दबोचा। मुख्य दलाल स्वास्थ्य विभाग फरार होने में कामयाब रहा। ये तीनों एक डिकॉय की शामली के किसी गांव में गर्भ में भ्रूण लिंग जांच कराकर लाए थे। हालांकि वे यहां टीम को चकमा देने में कामयाब रहे, टीम ने वापस सैकड़ों किलोमीटर का पीछा कर कुरुक्षेत्र आने पर दबोचा। स्वास्थ्य विभाग ने आरोपितों के खिलाफ थाना सदर पुलिस में शिकायत दी है।

पीसीएंड पीएनडीटी के नोडल अधिकारी डा. आरके सहाय ने बताया कि भ्रूण लिंग जांच कराने के एक गिरोह की सूचना जिला सिविल सर्जन डा. सुखबीर को मिली थी। उन्होंने डा. ऋषि, डा. संदीप और राजीव की टीम का गठन किया। टीम मुखबिर की मदद से डिकाॅय को मुख्य आरोपित राजकुमार से मिलवाया। आरोपित ने पहले 25 हजार की मांग की। स्वास्थ्य विभाग ने 25 हजार रुपये उसको उपलब्ध कराये। उसने पहले 30 मार्च को 15 हजार और फिर छह अप्रैल को सात हजार रुपये राजकुमार के खाते में ऑनलाइन ट्रांसफर कराए। इसके बाद राजकुमार ने कई दिन बाद मंगलवार का समय दिया।

मंगलवार को आरोपित दीदार नगर निवासी बबीता व दयालपुर निवासी सोमनाथ डिकॉय को ब्रह्मसरोवर पर मिले। यहां डिकॉय से 28 हजार रुपये और मांग की। वे उन्हीं की कार में लेकर उत्तर प्रदेश के शामली कस्बा के एक गांव में ले गए। जहां एक व्यक्ति ने किसी घर में डिकॉय का अल्ट्रासाउंड किया और लड्डू बांटने की बात कहकर बेटा होने का इशारा किया। इस बीच स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उनकी कार का पीछा भी किया, लेकिन बीच में वे चकमा देने में कामयाब हो गए।

टीम ने हौसले से काम लिया

स्वास्थ्य विभाग ने उनका पीछा किया और कुरुक्षेत्र में सुंदरपुर फाटक से पहले वर्धमान सिटी के नजदीक आरोपितों को दबोच लिया। वहीं आरोपितों के कब्जे से 24 हजार रुपये की रिकवरी की। डा. आरके सहाय ने बताया कि आरोपितों के खिलाफ केस दर्ज करा दिया गया है। टीम ने दीदार नगर निवासी बबीता व दयालपुर निवासी सोमनाथ को दबोच लिया।उनका तीसरा साथी राजकुमार फरार हो गया।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

यह भी पढ़ें: बेटी पूरे कर रहे टैक्सी चालक पिता के ख्‍वाब, भाई ने दिया साथ तो कामयाबी को बढ़े हाथ

यह भी पढ़ें: पानीपत में बढ़ रहा कोरोना, बच्‍चों को इस तरह बचाएं, जानिये क्‍या है शिशु रोग विशेषज्ञ की सलाह

यह भी पढ़ें: चोट से बदली पानीपत के पहलवान की जिंदगी, खेलने का तरीका बदल बना नेशनल चैंपियन

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप