पानीपत, [जगमहेंद्र सरोहा]। पानीपत हरियाणा अध्यापक पात्रता परीक्षा (एचटेट) देने वाली महिला अभ्यर्थियों के लिए राहतभरा समाचार है। मंगलसूत्र पहनकर और बिंदी और सिंदूर लगाकर परीक्षा केंद्र में जा सकेंगी। सिख अभ्यर्थियों को धार्मिक आस्था के चिह्न ले जाने की अनुमति होगी। अंगूठी, चेन, और बालियों पर पहले की तरह प्रतिबंध रहेगा।

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड ने 16 और 17 नवंबर को होने वाली परीक्षा के लिए जिला शिक्षा अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए हैं। पानीपत के जिला शिक्षा अधिकारी सतपाल सिंह ने बताया कि नेत्रहीन या अशक्त अभ्यर्थियों को 20 मिनट प्रति घंटे के हिसाब से 50 मिनट अतिरिक्त दिए जाएंगे। इसकी ओएमआर शीट भी अलग से लिफाफे में केंद्र अधीक्षक को भेजी जाएगी। परीक्षा शुरू होने के पश्चात 15 मिनट में बाकी अप्रयुक्त बुकलेट्स कपड़े की थैली लिफाफे में डालकर सील की जाएगी।

कंट्रोल रूम स्थापित होगा

परीक्षा को नकल रहित कराने के लिए हर जिले के डीईओ ऑफिस में कंट्रोल रूम स्थापित किया जाएगा। इसमें एक अधिकारी, दो कर्मचारी और एक चतुर्थ श्रेणी की नियुक्ति की जाएगी है। इसका सीधा संपर्क बोर्ड मुख्यालय पर स्थापित कंट्रोल रूम से होगा। इसके अधिकारियों और कर्मचारियों की सूची बोर्ड मुख्यालय पर स्थापित नियंत्रण कक्ष में भेजी जाएगी। अधिकारी जिले के उड़नदस्तों के निरीक्षण की रिपोर्ट लेकर उसी दिन बोर्ड में स्थापित नियंत्रण कक्ष को भेजेंगे।

जैमर लगाए जाएंगे, वीडियोग्राफी होगी

परीक्षा से पूर्व डीसी की अध्यक्षता में प्रमुख केंद्र अधीक्षक, केंद्र अधीक्षक, प्रशासनिक व राजपत्रित अधिकारियों की बैठक ली जाएगी। परीक्षा केंद्रों पर कैमरामैन, जैमरमैन, बॉयोमीट्रिक, सीसीटीवी कैमरामैन के पहचान-पत्र केंद्र अधीक्षकों को बनाने होंगे। अभ्यर्थी के पास कोई इलेक्ट्रोनिक उपकरण या मुद्रित कागज लाना प्रतिबंधित होगा।

पहले दिन लेवल-3 और दूसरे दिन 1 अैर 2 की परीक्षा

परीक्षा के पहले दिन 16 नवंबर को लेवल-3 (पीजीटी) की परीक्षा ली जाएगी। 17 नवम्बर को लेवल-2 (टीजीटी) और लेवल-1 (पीआरटी) की परीक्षा ली जाएगी। जिले में पानीपत व समालखा में परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे।  

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप