पानीपत, जेएनएन । कोर्ट के एक फैसले ने नेशनल हाईवे के हालात बदल दिए हैं। असली मालिक को उसका हक मिला तो उसने हाईवे पर कब्‍जा करने के लिए जमीन को खोद दिया। जैसे ही यह खबर प्रशासन तक पहुंची, अफसर दौड़े-दौड़े वहां पहुंच गए। किसान ने बताया कि जिस जगह पर नेशनल हाईवे बना हुआ है, वह उनकी जमीन है। कोर्ट ने उनके हक में फैसला सुना दिया है। कोर्ट का फैसला देखकर अफसरों ने किसान से कहा कि सोमवार तक समय दे दें। कुछ न कुछ हल निकाल देंगे। किसान उनकी बात मान गया। अफसरों ने खोदी गई जगह को ठीक किया और ट्रैफि‍क शुरू किया। पढ़ें ये विशेष खबर।

400 मीटर का टुकड़ा बना है किसान की जमीन पर

1951 में यहां अंबाला जगाधरी रोड बना था। हरिपुर जट्टान मोड से कैल कचरा प्लांट तक यह सड़क उनकी जमीन में बनी थी। पहले यहां से कच्चा रास्ता खेत के लिए निकलता था। सरकार ने उनकी जमीन का अधिग्रहण नहीं किया। लेकिन यहां पर पक्की रोड बना दी। बाद में इस रोड को नेशनल हाईवे भी बना दिया गया। लगातार उनके बाप-दादा सरकार को पत्र भेजकर गुहार लगाते रहे, कि उनकी जमीन छोड़ी जाए। पत्रों पर कोई सुनवाई नहीं हुई।

2000 में उनके चाचा बलबीर सिंह इस मामले को लेकर जगाधरी कोर्ट में चले गए। सेशन कोर्ट ने 2016 में उनके हक में फैसला सुनाया। इस दौरान अफसरों ने जमीन के बदले में कहीं और जमीन देने की भी बात उनके सामने रखी, लेकिन ढिल्लो परिवार नहीं माना। सेशन कोर्ट का आदेश लागू कराने के लिए लोअर कोर्ट में भेजा गया। यहां पर भी दो साल तक सुनवाई चलती रही। यहां से उनको कब्जा देने के आदेश दिए गए हैं। करीब 400 मीटर का टुकड़ा किसान की जमीन में बना है।

yamuna court case

किसान ने जमीन पर किया कब्‍जा।

पहले चार, फिर आठ को हुई कार्रवाई

हरिपुर  खेड़ा निवासी  किसान कश्मीर सिंह ढिल्लो व उनके परिवार ने चार दिसंबर को कब्जा लेने की बात कही थी, लेकिन अधिकारियों ने उनसे आठ दिसंबर तक का समय मांगा। तय समय पर किसान जेसीबी लेकर पहुंचा, तो पहले कोई नहीं आया। उन्होंने रोड की खुदाई शुरू कर दी। इसका पता अधिकारियों को लगा, तो तुरंत सिटी थाना प्रभारी राजीव मिगलानी, यातायात निरीक्षक यादवेंद्र सिंह व पीडब्ल्यूडी से एसडीओ जसबीर सिंह पहुंचे। इस दौरान डीएसपी रणधीर सिंह भी पहुंचे और किसान से बात की।

दोनों तरफ खड़ी कर दी थी ट्रॉलियां

हाईवे पर जहां तक किसान की जमीन थी। वहां पर दोनों और ट्रॉलियां खड़ी कर दी गई। वाहनों की आवाजाही पर भी रोक लगा दी गई। इस दौरान कश्मीर सिंह  ढिल्लो व उसके परिवार के लोग सड़क पर ही बैठे रहे। परिवार के बच्चे भी खुशी मना रहे थे। इसकी एक वीडियो भी वायरल हुई। जिसमें एक नवयुवक सड़क पर लेटा है और कह रहा है कि हाईवे पर हमने कब्जा ले लिया।

kashmeer

जनता को परेशान नहीं करना है - कश्‍मीर सिंह

किसान कश्मीर सिंह ढिल्लो का कहना है कि जनता को परेशान करना उनका मकसद नहीं है। जमीन उनकी है, कोर्ट ने उन्हें ऑर्डर दिया है। अब यदि सोमवार को भी हल नहीं निकला, तो वह कब्जा लेंगे। प्रशासन व विभाग अपना इंतजाम जल्द से करे।

jasbeer

सोमवार तक समय लिया है - एसडीओ जसबीर

एसडीओ जसबीर सिंह का कहना है कि अधिकारियों ने सोमवार तक का समय दिया है। किसान व अधिकारियों की बैठक होगी, जिसमें समझौते की बात की जाएगी। रोड के लिए 1600 स्क्वायर गज जगह की जरूरत है। किसान को मार्केट रेट के हिसाब से विभाग पैसा देने को तैयार है। यदि किसान मान जाता है, तो ठीक है, नहीं तो हमारी साइड में जगह पड़ी है। वहां पर रोड बनाया जाएगा, लेकिन इसमें समय लगेगा। फिलहाल किसान सोमवार तक मान गया है।

सीएम घोषणा कर चुके हैं हाईवे को चौड़ा करने की 

ध्यान रहे कि जिस हाईवे की किसान ने खुदाई की है,  इसी हाईवे को सीएम कैल से पंसारा तक 10 मीटर चौड़ा व शहर में फोरलेन बनाने की घोषणा कर चुके हैं। कुछ दिन पहले ही यह रोड एनएचआइ से पीडब्ल्यूडी को ट्रांसफर हुआ है। घोषणा के बाद अधिकारियों ने हाईवे को चौड़ा करने का काम भी शुरू कर दिया। शहर में काम भी चल रहा है। पेड़ों की कटाई भी की गई, मगर अधिकारियों ने जमीन का अधिग्रहण नहीं किया। किसान के पक्ष में आए फैसले को अधिकारियों ने गंभीरता से नहीं लिया तो सीएम की घोषणा खटाई में पड़ सकती है।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Ravi Dhawan