जागरण संवाददाता, जींद। जुलाई माह की शुरुआत में नए शराब ठेकेदारों को ठेके अलॉट होने के बाद मंथली मांगने की वारदात में वृद्धि हो गई है। मंथली देने से मना करने पर शराब ठेकों पर हमला करने व तोड़फोड़ की चार वारदात सामने आ चुकी हैं। पहले इस तरह की घटनाएं अप्रैल माह में होती थीं। इस बार कोविड के चलते शराब ठेके बंद होने के चलते पुराने शराब ठेकेदारों को ही एक जुलाई तक का समय दिया हुआ था। अब जुलाई में नए ठेकेदारों को ठेके मिलते ही बदमाशों द्वारा मंथली मांगने की घटनाएं बढ़ गई हैं।

ऐसे ही घटना गांव पौली में हुई थी। यहां पर शराब ठेकेदार पर गांव के ही कुछ लोगों ने मंथली की डिमांड की थी, लेकिन उसने मंथली देने से मना कर दिया था। इस पर सात जुलाई को शराब ठेके पर फायरिंग कर दी थी। इस मामले में पुलिस ने गांव पौली निवासी सत्यवान, करनैल सिंह, अभिषेक उर्फ रुपला को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपितों को अदालत में पेश करके जेल भेज दिया। 

सेल्समैन सो रहा था ठेके में, तब चली गोली

गांव खोखरी निवासी मोहित ने सात जुलाई को जुलाना थाना पुलिस को शिकायत दी थी। शिकायत में बताया कि वह गांव पौली के शराब ठेके पर सेल्समैन लगा हुआ है। रात को वह ठेके के गेट को बंद के अंदर सो रहा था। इसी दौरान ठेके के गेट के बाहर गोली चलने की आवाज सुनाई दी। थोड़ी देर के बाद दूसरी गोली चलाई गई। गोली चलने की सूचना उसने शराब ठेकेदार को फोन पर दी।

मंथली देने से ठेकेदार ने कर दिया था मना

मोहित ने बताया कि कुछ दिन पहले गांव पौली के कुछ लोगों ने मंथली देने के लिए कहा था, लेकिन शराब ठेकेदार ने मना कर दिया था। उसके बाद आरोपितों ने देख लेने की धमकी दी थी। इसलिए रात को फायरिंग करके दहशत फैलाई है। वहीं गांव रामराये के शराब ठेके पर भी करीब एक दर्जन लोगों ने हमला करके शराब की पेटी व नकदी को लूट लिया था। इस मामले में भी पुलिस अब तक आधा दर्जन लोगों को गिरफ्तार का चुकी है।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

Edited By: Umesh Kdhyani