जागरण संवाददाता पानीपत : वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिये हरियाणा रोडवेज वर्कर यूनियन इंटक की बैठक हुई। इसमें राज्य के उपमहासचिव संदीप रंगा ने कहा कि एक तरफ तो देशभर में कोरोना महामारी फैली हुई है और प्रदेश में लॉकडाउन लगाया गया है। वहीं दूसरी तरफ परिवहन मंत्री द्वारा घोषणा की गई है कि रोडवेज बसें बंद नहीं होंगी। मंत्री के इस बयान से यूनियन में रोष बना हुआ है।

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के दौरान भी बसों को भरकर चलाया जा रहा हैं। इससे आए दिन चालक और परिचालक कोरोना महामारी का शिकार हो रहे हैं। हाल ही में जींद डिपो के परिचालक नरेश कोरोना का शिकार हुए हैं। परिवार का सारा बोझ उन्हीं पर था। ऐसे ही न जाने कितने कर्मचारी हैं, जो कोरोना का शिकार हो चुके है और सरकार की तरफ से उनका कुछ नहीं किया गया, सिर्फ सांत्वना ही दी जाती हैं।

उन्होंने कहा कि हरियाणा रोडवेज इंटक इसका कड़ा विरोध करती है और सरकार से मांग भी करती है कि जितने भी रोडवेज कर्मचारी कोरोना का शिकार हुए है, उनको 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता व एक नौकरी दी जाए और रोडवेज बसों का परिचालन बंद किया जाए।