जींद/पानीपत, जेएनएन। जींद में शुक्रवार का दिन मौसम और कोरोना के लिहाज से जिले के लिए राहत भरा रहा। बारिश के जहां मौसम खुशगवार हो गया तो वहीं कोरोना का भी कोई मामला सामने नहीं आया। गांगोली गांव की बुजुर्ग महिला और आस्ट्रेलिया से लौटे कालवन गांव के युवक कोरोना को मात देते हुए दोनों ठीक होकर घर लौट गए। जिले में अब तक मिले कुल 30 लोगों में 24 लोग कोरोना को पराजित कर घर वापस लौट चुके हैं। अब जिले में कोरोना के केवल छह केस ही एक्टिव बचे हैं।

गांव गांगोली निवासी 65 वर्षीय रती देवी को हृदय की दिक्कत के चलते 17 मई को खानपुर पीजीआई में भर्ती करवाया गया था। वहां सैंपल लिए जाने के बाद 20 मई को मिली रिपोर्ट में महिला कोरोना संक्रमित मिली थी। वहीं गांव कालवन निवासी 24 वर्षीय संदीप 19 मई को अमेरिका से लौटा था। 20 मई को पंचकूला में लिए सैंपल में उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। दोनों को ही पीजीआई रोहतक भेजा गया था। शुक्रवार को मिली रिपोर्ट में रती देवी और दीपक की दूसरी रिपोर्ट नेगेटिव आई। इसके बाद दोनों को डिस्चार्ज कर उनके घर भेज दिया गया और उन्हें होम क्वारंटाइन किया गया है।

एमपीएचडब्ल्यू के स्वजनों के लिए सैंपल

कुरुक्षेत्र में एमपीएचडब्ल्यू के तौर पर तैनात 30 वर्षीय युवक के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुक्रवार को संक्रमित युवक के स्वजनों के सैंपल लिए गए। मूल रूप से कंडेला गांव और हाल आबाद जींद की शीतलपुरी कॉलोनी में रहने वाला युवक 23 मई को कुरुक्षेत्र से स्कूटी पर सवार होकर घर पहुंचा था। रात को घर पर रूकने के बाद सुबह वापस कुरुक्षेत्र के लिए निकल गया था। वहां जाकर उसकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई, इसलिए जींद के स्वास्थ्य विभाग ने  उसके संपर्क में आने वाले उसके पिता, उसकी माता, पत्नी, डेढ़ साल का बेटा, भाई, भाभी, भाई के छह साल के लड़के और 9 साल की लड़की के सैंपल लिए हैं।

शुक्रवार को आई 76 रिपोर्ट, सभी नेगेटिव : सिविल सर्जन

सिविल सर्जन डॉ. जयभगवान जाटान ने बताया कि शुक्रवार को जिले में कोरोना का कोई नया मामला सामने नहीं आया। स्वास्थ्य विभाग को मिली सभी 76 सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आई हैं। दो लोगों को पीजीआई से डिस्चार्ज किया गया है। अब जिले में केवल छह ही एक्टिव केस बचे हैं।

तबीयत बिगडऩे से 21 वर्षीय युवती की मौत, कोरोना रिपोर्ट आने के बाद सौंपा जाएगा शव

नरवाना : गांव गुरुसर में विवाहिता की संदिग्ध परिस्थितियों में तबीयत बिगडऩे पर मौत हो गई। महिला की मौत कोरोना वायरस से हुई या अन्य कारणों से। इसके लिए मृतका का कोरोना टेस्ट के लिए सैंपल लिया गया है। सदर थाना पुलिस ने शव को नागरिक अस्पताल के शवगृह में फ्रीजर में रखवा दिया है। कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट आने के बाद ही परिजनों को शव सौंपा जाएगा। विवाहिता 21 वर्षीय महिला का उकलाना के सनियाना गांव में मायका है। उसका पति उकलाना के सनियाना गांव से 26 मई को लेकर आया था। उसके मुंह में छाले पड़े हुए थे। इसके बाद उसकी 28 मई को अचानक उसकी तबीयत बिगड़ गई। उसको निजी अस्पताल ले जाया गया। लेकिन वहां उसकी तबीयत में सुधार न होने के कारण नागरिक अस्पताल में ले जाया गया। जहां चिकित्सकों ने उसकी गंभीर अवस्था को देखते हुए अग्रोहा मेडिकल रेफर कर दिया। लेकिन बीच रास्ते में उसकी मौत हो गई।

20 दिन मायके में रहकर आई थी महिला

गांव गुरुसर में विवाहिता अपने मायके सनियाना गांव में लगभग 20 दिन रहकर आई थी। लेकिन वहां से आने के बाद उसकी तबीयत बिगडऩे पर मौत हो जाने के बाद प्रशासन तुरंत हरकत में आ गया। स्वास्थ्य विभाग ने एहतियात के तौर पर महिला के संपर्क में आये उसके पति व देवर के कोरोना सैंपल लिए गए हैं। अगर मृतका का सैंपल कोरोना पॉजिटिव मिलता है, तो गांव गुरुसर व उकलाना के सनियाना गांव की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस