करनाल, जागरण संवाददाता। पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता के कारण पूरे प्रदेश में दिनभर बूंदाबांदी का माहौल बना रहा, यह सिलसिला आने वाले 24 घंटे में बने रहने की संभावना है। हालांकि शनिवार के मुकाबले रविवार को बूंदाबांदी की सक्रियता थोड़ी कम रहेगी। क्षेत्र में हुई बरसात के साथ दक्षिण-पूर्वी हवाओं ने मौसम में ठंडक बढ़ा दी है। हवा की रफ्तार तेज होने के कारण कोहरा जम नहीं पाया है, जिसके कारण दृश्यता साफ रही। करनाल व आसपास के क्षेत्र में 5.0 से 6.0 एमएम बरसात हो सकती है। जनवरी में 5वीं बार होने जा रही बरसात के कारण मौसम में लगातार नमी बनी हुई है, जिसके कारण सरसों की फसल को नुकसान होने का अंदेशा बढ़ गया है। इसके अलावा टमाटर व मटर  की फसल को भी ज्यादा बरसात से नुकसान हो सकता है। गेहूं की फसल के लिए यह बरसात बहुत बढ़िया बताई जा रही है।

आज तेज हवा कर सकती है परेशान

मौसम विभाग ने संभावना जताई है कि 23 जनवरी को मौसम में एक बार फिर बदलाव देखने को मिल सकता है। तेज हवाएं चल सकती है, हालांकि तेज हवा का असर उत्तर हरियाणा के कुछ जिलों में ज्यादा देखने को मिल सकता है। हवा की रफ्तार तेज होने व नमी के कारण सरसों की जड़ें उखड़ सकती हैं। इसके अलावा फूल व फलियां भी टूटकर गिर सकती हैं, जिससे पैदावार पर असर पड़ेगा। ओलावृष्टि की आशंका ने भी किसानों की चिंता बढ़ा दी है। 

देश भर में बने मौसमी सिस्टम 

मौसम विभाग के मुताबिक इस समय पश्चिमी विक्षोभ जम्मू कश्मीर और आसपास के इलाकों पर बना हुआ है। प्रेरित चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र मध्य पाकिस्तान और इससे सटे पश्चिमी राजस्थान के हिस्सों पर बना हुआ है। एक टर्फ रेखा पश्चिमी राजस्थान से पूर्वी उत्तर प्रदेश तक फैली हुई है। उत्तर बंगाल प्रदेश और आसपास के क्षेत्रों में चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है।

Edited By: Naveen Dalal