जागरण संवाददाता, पानीपत : बार एसोसिएशन ने जेएमआइसी आशुतोष शर्मा की कोर्ट का तीन दिन के लिए बहिष्कार कर दिया। एसोसिएशन का आरोप है कि जज का वकीलों के साथ बर्ताव ठीक नहीं है। जान बूझकर केसों को रद कर दिया जाता है।

जिला बार एसोसिएशन की फुल हाउस की बैठक बृहस्पतिवार को प्रधान शेर सिंह खर्ब की अध्यक्षता में हुई। इसमें एडवोकेट साकिर अली अंसारी की शिकायत पर विचार-विमर्श किया गया। शेर सिंह खर्ब ने कहा कि जेएमआइसी आशुतोष शर्मा का वकीलों के प्रति बर्ताव ठीक नहीं है। किसी भी केस में जुर्माना लगा देते हैं। इससे वकीलों की छवि खराब हो रही है। सभी वकीलों ने जेएमआइसी आशुतोष शर्मा की कोर्ट का तीन दिन तक बहिष्कार करने की बात रखी।

जिला बार एसोसिएशन ने वकीलों के सामूहिक फैसले पर अपनी मुहर लगाई। शेर सिंह खर्ब ने कहा कि जज वकील के बिना न्याय प्रक्रिया को पूरा नहीं कर सकता। कानून में उनका भी समान अधिकार और सम्मान है। उनको इस तरह से अनदेखा नहीं किया जा सकता। जेएमआइसी आशुतोष शर्मा के बर्ताव के बारे में जिला जज को भी अवगत करा चुके हैं, लेकिन उनके बर्ताव में किसी तरह का बदलाव नहीं आया। हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस और इंस्पेटिग जज से उनके तबादले की मांग करेंगे।

इस मौके पर सचिव गुरविद्र सिंह विर्क, पूर्व प्रधान उमेद सिंह अहलावत, राजेश शर्मा, सुरेश छौक्कर व परीक्षित अहलावत मौजूद रहे। चेक बाउंस के चार मामले खारिज किए

एडवोकेट साकिर अली अंसारी ने जिला बार एसोसिएशन को जेएमआइसी आशुतोष सिंह की लिखित शिकायत दी है। उन्होंने कहा कि उनके चेक बाउंस के चार केस जेएमआइसी की कोर्ट में लगे थे। शनिवार को इन केसों की सुनवाई थी। बार एसोसिएशन शनिवार को वर्क सस्पेंड रखती है। कोर्ट ने उनके चारों केसों को डिस्मिस कर दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप