जागरण संवाददाता, पानीपत : जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण सेवाएं (डीएलएसए) के सचिव एवं सीजेएम अमित शर्मा ने कहा कि मानसिक रोगियों के साथ भेदभाव का बर्ताव नहीं किया जाना चाहिए। मानसिक अशक्तता से ग्रस्त व्यक्ति सभी मानवीय अधिकार एवं भौतिक स्वतंत्रता के हकदार हैं।

सीजेएम ने बताया कि आमजन को जागरूक करने के लिए स्वास्थ्य विभाग की मदद से शिविर लगाए जाएंगे। शेड्यूल बन गया है, 19 फरवरी को सिविल अस्पताल और कोर्ट कॉम्पलेक्स समालखा में कैंप लगेगा। कदम मिलाकर चलना होगा नाम से चलने वाले सात दिवसीय अभियान में पैनल एडवोकेट की अहम भूमिका रहेगी। जनमानस को बताया जाएगा कि एकांकी जीवन जीने वाले बुजुर्गों और परीक्षा में उच्च अंक जाने का दबाव डालने पर बच्चे भी मानसिक विकार की चपेट में आ जाते हैं।

इन हालात में क्या करना चाहिए, शिविरों में बताया जाएगा। मानसिक रोगियों को प्राधिकरण की ओर से फ्री वकील मिलता है। सरकार भी पेंशन देती है। इस दौरान कोई मानसिक रोगी लावारिस मिलेगा तो उसे अस्पताल में भर्ती भी कराया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस