पानीपत/जींद, [कर्मपाल गिल]। जींद उपचुनाव से सियासी करियर का आगाज करने वाले जननायक जनता पार्टी के नेता दिग्विजय चौटाला ने कहा कि वह इस बार विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ेंगे। परिवार व पार्टी में भी इस पर आम सहमति बन गई है। वह प्रदेशभर में पार्टी के प्रत्याशियों के समर्थन में जनसभाएं करेंगे। बता दें कि दिग्विजय ने जींद उपचुनाव के बाद सोनीपत से लोकसभा चुनाव भी लड़ा था, लेकिन जीत नहीं सके। जींद उपचुनाव में वह दूसरे नंबर पर रहे थे।

शुक्रवार को जींद पहुंचे दिग्विजय चौटाला ने दैनिक जागरण से बातचीत में कहा कि राजनीति में चुनाव लडऩा ही सब कुछ नहीं होता है। चुनाव लड़ाना और अपनी पार्टी के नेताओं को जिताना उससे भी ज्यादा महत्वपूर्ण है। इसलिए परिवार व पार्टी ने फैसला लिया है कि वे लडऩे के बजाय प्रदेशभर में पार्टी प्रत्याशियों के लिए प्रचार करेंगे। उन्होंने बताया कि पूर्व सांसद दुष्यंत चौटााल उचाना कलां से और नैना चौटाला डबवाली से चुनाव मैदान में उतरेंगी। दिग्विजय ने यह भी कि पार्टी पूरे प्रदेश में कहीं से भी पैराशूट से प्रत्याशी नहीं उतारेगी। जनता के बीच रहकर जेजेपी को मजबूत करने वाले नेताओं को ही टिकट देंगे। दिग्विजय ने कहा कि जींद व उचाना उनका घर है। वह अपने घर को किसी सूरत में नहीं छोड़ सकते। इस बार दुष्यंत उचाना से ही चंडीगढ़ का रास्ता तय करेंगे। 

बता दें कि दुष्यंत ने सांसद रहते हुए पिछला विधानसभा चुनाव भी उचाना से लड़ा था, लेकिन भाजपा प्रत्याशी प्रेमलता से 7480 वोटों से हार गए थे। वहीं नैना चौटाला ने पिछला चुनाव डबवाली से कांग्रेस के डॉ. कमलवीर ङ्क्षसह को 8545 वोटों से हराकर जीता था। इससे पहले वर्ष 2009 के चुनाव में नैना के पति अजय चौटाला डबवाली से 12108 वोटों से जीतकर विधानसभा में पहुंचे थे। 

कांग्रेस के ढोल खाली, सीएम के 16 दावेदार

जेजेपी नेता दिग्विजय चौटाला ने कहा कि कांग्रेस के ढोल खाली हैं। उस पार्टी में सीएम पद के 16 दावेदार हैं। आज वह जिस एकजुटता की बात कर रहे हैं, जींद उपचुनाव में भी ऐसी ही बातें कर रहे थे। तब कांग्रेस प्रत्याशी सुरजेवाला तीसरे नंबर पर रहे थे। 

Posted By: Anurag Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप