पानीपत/कैथल, जेएनएन। श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर्व पर मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना की। पर्व को लेकर जिलेभर के मंदिरों में आज रौनक का माहौल है। हालांकि जिला प्रशासन की ओर से मंदिरों में पूजा को लेकर हिदायतें जारी की गई है। जिसमें श्रद्धालुओं को मास्क लगाने और दो गज की दूरी का नियम का पालना करना अनिवार्य है। पर्व के दिन श्रद्धालुओं ने भगवान श्री कृष्ण का उपवास भी रखा है। जो शाम के समय मंदिरों में जाकर अपना उपवास खोलेंगे। 

शहर के श्री ग्यारह रुद्री मंदिर, शिव शक्ति धाम मंदिर, हनुमान वाटिका मंदिर, सेक्टर 19 स्थित शिव मंदिर, श्री अंबकेश्वर मंदिर, सनातन धर्म मंदिर सहित अन्य मंदिरों को भव्य ढंग से सजाया गया है। इसके साथ ही यहां ठाकुर जी को झूला झुलाने के लिए भगवान ठाकुर जी की प्रतिमा की स्थापना भी की गई है। 

नन्हें मुन्हें बच्चों को बनाया कान्हा जी 

जन्माष्टमी पर्व पर मंदिरों में एक तरफ जहां सुबह से ही श्रद्धालु पूजा-अर्चना के लिए पहुंचे। वहीं, लोगों ने अपने नन्हें मुन्हें बच्चों को कान्हा जी की ड्रेस पहनाई। वहीं, बच्चियों को भी राधा-रानी की वेशभूषा पहनाई। 

नहीं हुआ कार्यक्रमों का आयोजन  

जन्माष्टमी पर्व पर कोरोना महामारी के चलते झांकियों का कार्यक्रम अायोजित नहीं किए गए। वहीं, स्कूलों के बंद होने के कारण मटकी फोड़ने के कार्यक्रम भी आयोजित नहीं किए जा सके। ऐसा महामारी के प्रकोप के चलते किया गया है। ताकि लोग इस महामारी की चपेट में न आ सकें। 

लोगों ने की पूजा-अर्चना 

शिव शक्ति धाम मंदिर के संचालक पंडित प्रेमशंकर और हनुमान वाटिका के पुजारी विशाल शर्मा ने बताया कि पर्व पर लोगों सुबह से मंदिर में पूजा-अर्चना करने के लिए पहुंचे। लेकिन यहां पर लोगों को नियमों का पालन करने की विशेष हिदायते जारी की गई थी। यहां मास्क पहन और दो गज की दूरी का ख्याल रखकर ही लोग पूजा कर रहे हैं। 

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप