कैथल, जेएनएन। उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा कि कृषि सुधार कानूनों का विरोध करने वाले किसानों की मांग सिर्फ न्यूनतम समर्थन मूल्य निर्धारित करने की थी, लेकिन अब यह बढ़कर 25 मांगें हो चुकी हैं। आंदोलन का नेतृत्व करने वाले 40 किसान अगर उनसे (दुष्यंत चौटाला से) बात करें तो वह उनकी मांग को लेकर केंद्र सरकार से बात करने को तैयार हैं। यह कहकर उपमुख्यमंत्री ने किसानों के सामने केंद्र सरकार से वार्ता के लिए मध्यस्थता का प्रस्ताव भी रख दिया है।

दुष्यंत कैथल में देर शाम जजपा नेता अशोक बंसल के निवास पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि यह 40 लोग आज चर्चा करने को तैयार नहीं है। केंद्र सरकार तैयार है, लेकिन यह लोग अब विषय लेकर नहीं आ रहे हैं। धरने पर बैठे किसान भी हिंदुस्तान के ही हैं, लेकिन सारे रास्ते बंद करके किसानी का भला नहीं हो सकता। यह जाहिर है कि किसानों के आर्थिक हालात सुधारने की चिंता हमारी सरकार को है।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि किसानों के हित में उन्होंने कई महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। देश के इतिहास में पहली बार जौ की सरकारी खरीद की जाएगी। इसे किसान को 1600 रुपये से ज्यादा एमएसपी देकर खरीदा जाएगा। इस बार फसल के भुगतान के लिए किसान को आइ-फार्म कटने का इंतजार नहीं करना होगा। जैसे ही आढ़ती किसान का जे-फार्म काटेगा, उसके 48 घंटे में भुगतान कर दिया जाएगा।

किसान मेरी फसल-मेरा ब्यौरा पर पंजीकरण जरूर कराएं। एक-एक किसान को मंडी में बुलाकर बेहतर व्यवस्था दी जाएगी। इनेलो नेता अभय सिंह चौटाला के इस्तीफे पर दुष्यंत चौटाला ने कहा कि क्या आप उन्हें सीरियस पॉलिटिशियन मानते हैं और यह कहकर वे मुस्कुरा दिए। निर्दलीय विधायक बलराज कुंडू के निवास पर सीबीआइ की रेड पर उन्होंने कहा कि इस बारे में उन्हें पूरी जानकारी नहीं है। अशोक तंवर को नए मोर्चे के लिए दुष्यंत चौटाला ने शुभकामनाएं दीं।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021