जागरण संवाददाता, पानीपत : कोरोना महामारी में सवा लाख से अधिक बूस्टर डोज बांटने वाले आयुष विभाग ने अब संक्रमितों को कोरोनिल किट (श्वासारि वटी, कोरोनिल गोली, अणु तेल) बांटने की तैयारी कर ली है। पांच पीएचसी में 1280 किट पहुंचाई गई है।

मरीज की कोरोना पाजिटिव रिपोर्ट दिखाकर उसके स्वजन इस किट को ले सकते हैं। यह मरीज की इम्यूनिटी को मजबूत बनाएगी। आयुर्वेदिक मेडिकल आफिसर डा. संजय राजपाल ने बताया कि कोरोना की पहली लहर में लगभग 40 हजार व दूसरी लहर में लगभग 75 हजार से ज्यादा बूस्टर डोज (गुडुची घन वटी, सम्शमनी वटी और अणु तेल) जिलावासियों को बांटी थी। डोज हेल्थ व फ्रंटलाइन वर्कर्स सहित तमाम सरकारी-निजी संस्थानों सहित संक्रमित मरीज के स्वजनों में बांटी थी। अब विभाग ने कोरोनिल किट वितरण का निर्णय लिया है। दूसरी लहर के दौरान 6000 किट मिली थी, मात्र पांच किट बांटी गई थी। इसके बाद केस आने बंद हो गए थे। अब तीसरी लहर आ चुकी है तो वितरण का कार्य शुरू कर दिया है।

सिविल सर्जन और कोविड-19 के जिला नोडल अधिकारी के कार्यालय से मरीजों की सूची प्राप्त कर ली है, ताकि किट उनके घर पहुंचाई जाए। 40 दिन का कोर्स :

डा. संजय ने बताया कि किट में श्वासारि वटी की 80, कोरोनिल की 80 गोलियां हैं। सुबह-शाम सेवन करनी है, यानि 40 दिन का कोर्स है। अणु तेल की नाक में सुबह-शाम एक-एक बूंद डालनी है। अणु तेल का काम :

सर्दी लगने से जुकाम होना स्वभाविक है। ऐसे में अणु तेल की बूंद नाक में डालने से आराम मिलता है। दूसरा लाभ यह कि कोरोना वायरस नाक में पहुंचा तो तेल से चिपकने के कारण उससे आगे नहीं जा सकेगा। नाक की सफाई के दौरान वायरस बाहर निकल जाएगा।

Edited By: Jagran