जागरण संवाददाता, पानीपत : जिले के ग्रामीण व शहरी आंचल में बगैर मान्यता के अनेक स्कूल चल रहे हैं। कोविड-19 के नियमों के पालन को लेकर जिला शिक्षा अधिकारी स्कूलों में निरीक्षण को लेकर निकले। शहर के हरि नगर में एक प्राइवेट स्कूल में छठी से आठवीं तक की कक्षाएं लगी थीं, लेकिन यहां न तो कोविड के नियमों का पालन हो रहा था और न संचालक मान्यता से संबंधित कागजात दिखा सका। अब विभाग की ओर से उसे नोटिस जारी कर दिया है।

जिले के शहरी व ग्रामीण आंचल में कई प्राइवेट स्कूल खुले हैं। प्रशासन व शिक्षा विभाग के अधिकारियों की नाक के नीचे कुछ ऐसे स्कूल भी चल रहे हैं, जिनके पास मान्यता नहीं है। मान्यता वालों में भी कुछ स्कूल ऐसे हैं जिनके पास पांचवीं, आठवीं या दसवीं तक मान्यता है और वो बारहवीं तक के बच्चों को बैठाकर पढ़ाई करा रहे हैं। इन कक्षाओं के विद्यार्थियों का पंजीकरण वह अन्य मान्यता प्राप्त स्कूलों में करवाते हैं। खासकर ग्रामीण अंचल में ऐसे स्कूलों की संख्या काफी ज्यादा है। स्कूल संचालकों की ये व्यवस्था बच्चों व अभिभावकों को भी गुमराह करती है। ज्यादातर बच्चों व अभिभावकों को ऐसी व्यवस्था का पता तब चलता है, जब बोर्ड की कक्षा संबंधित मार्कशीट में नाम किसी और स्कूल का मिलता है। जारी किया गया है नोटिस

जिला शिक्षा अधिकारी रमेश कुमार ने दैनिक जागरण को बताया कि हाल में छठी से बारहवीं तक की कक्षाएं लग रही हैं। वह कोविड-19 के नियमों के पालन को लेकर निरीक्षण करने के लिए गए थे। निरीक्षण के दौरान हरिनगर में चल रहे सरस्वती पब्लिक स्कूल में नियमों का पालन नहीं किया जा रहा था। ऐसे में स्कूल संचालक को नियमों के पालन की हिदायत देने के साथ उनसे स्कूल की मान्यता संबंधित कागजात मांगे तो वो मौके पर दिखा नहीं पाए। अब उन्हें मान्यता संबंधित कागजात पेश करने को लेकर नोटिस जारी किया गया है। यदि उनके पास मान्यता नहीं मिलती है तो विभाग के नियम अनुसार सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

Edited By: Jagran