अंबाला, जेएनएन। कोरोना के बढ़ते प्रकोप के चलते सेंट्रल जेल में कैदी-बंदियों को काढ़ा पिलाया जाएगा। इससे जहां इम्यूनिटी पॉवर बढ़ेगी वहीं कैदी-बंदियों में कोरोना महामारी से बचाव होगा। उल्लेखनीय है कुछ दिन पहले ही सेंट्रल जेल में पहले छह और बाद में तीन और नये केस पॉजीटिव आए थे। हालांकि जेल प्रशासन की तरफ से इन कैदी-बंदियों को रेवाड़ी जेल भेज दिया गया था।

गौरतलब है 2020 में भी लॉकडाउन के दिनों में कैदी-बंदियों को काढ़ा पिलाया गया था, ऐसे में अब दोबारा इसपर विचार किया जा रहा है। वहीं संक्रमितों को अलग से रखने के लिए जेल के ही अंदर हर अलग से पांच नये ब्लॉक तैयार किये गये जिनमें संक्रमितों को 14 दिन के लिये क्वारंटाइन किया जाता है तथा कैदी-बंदियों को कोरोना महामारी से बचाव के लिए जेल के अंदर ब्लॉकों को सैनिटाइज किया जा रहा है। इसके अलावा उन्हें एक-दूसरे से दूरी तथा मास्क लगाए रखने के बारे में कहा गया है।

लॉकडाउन के दिनों में बनाए गए थे 48 ब्लॉक

गौरतलब है 2020 में पहला संक्रमित केस मिला थाना उसके बाद शुरूआती दौर में 24 ब्लॉक बनाए गए थे। बाद में इनकी संख्या बढ़ाकर 48 कर दी गई थी। बता दें सेंट्रल जेल में करीब 1228 कैदी-बंदी है, जबकि यहां 1250 कैदी-बंदियों को रखने की क्षमता है। इसके अलावा जेल अधिकारियों के मुताबिक जेल में आने वाले कैदी-बंदियों का पहले अच्छी तरह से मेडिकल किया जाता है उसके बाद क्वारंटाइन ब्लॉक में 14 दिन के लिए रखा जाता है। बता दें अंबाला की सेंट्रल जेल में हरियाणा के अलावा, पंजाब, हिमाचल, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, राजस्थान उत्तराखंड आदि जगहों के कैदी-बंदी है।