जागरण संवाददाता, पानीपत : दैनिक जागरण ने शहर की समस्याओं को लेकर सच से सामना करवाया तो प्रशासन के तीन विभागों की नींद टूट गई और हरकत में आया। सनौली रोड पर गहरे गड्ढे, पानी निकासी की समस्या को लेकर नगर निगम व नेशनल हाईवे अथारिटी आफ इंडिया (एनएएचएआइ) ने संयुक्त रूप से काम करना शुरू किया। पीडब्ल्यूडी ने भी काम शुरू कर दिया है। पानी की निकासी कराई जा रही है। हालात सुधारने में तेजी दिखानी होगी। जल्द ही हनुमान स्वरूप भी निकलने वाले हैं। सनौली रोड पर स्वरूप आएंगे तो गिरकर चोटिल भी हो सकते हैं। आम लोग तो रोजाना हादसे के शिकार हो रहे हैं।

बुधवार को एनएएचएआइ ने नगर निगम को पत्र लिखकर पानी निकासी करने को कहा था। वीरवार को नगर निगम व एनएएचएआइ ने संयुक्त काम कर 567 गड्ढे भरने का काम शुरू किया। अभी तक पानी निकासी पूरी तरह से नहीं हो सकी है। इसमें शुक्रवार तक सनौली रोड पर पूरी तरह से पेचवर्क कर लिया जाएगा। इससे शहर के लोगों गड्ढों भरे सफर से निजात मिलेगी। अभी ये समस्याएं सामने

- सनौली रोड पर पानी निकासी का प्रमुखता समाधान नहीं।

- ड्रेन की सफाई नहीं होने के कारण सड़क पर नाले बैक मारते हैं। दूषित पानी सड़क पर भर जाता है।

- निगम के पास पानी निकासी के लिए अस्थाई विकल्प भी नहीं, जिससे समाधान किया जा सके।

- सकर मशीन से ही पानी निकासी की जा रही। इसे एक रूट पर नहीं रखा जा सकता।

- कालोनियों का पानी भी सड़कों पर आ रहा। जिसके कारण सड़कें टूट रही। आए दिन हो रहे थे हादसे

सनौली रोड निवासी राज ने जागरण से बातचीत में बताया कि सड़कों पर इतने गहरे गड्ढे बन चुके है कि यहां से छोटे वाहनों का निकलना काफी मुश्किल होता है। यहां आए दिन ई-रिक्शा, आटो व टू व्हीलर वाहन पलट जाते है। भरे जा रहे गड्ढे व पानी निकासी है मेन समस्या

एनएचएआइ के हाईवे इंजीनियर नामदेव ने जागरण से बातचीत में बताया कि सनौली रोड पर गड्ढे भरे जा रहे हैं। नगर निगम अगर पानी निकासी पूरी तरह से कर दे तो 24 घंटे में सनौली रोड को पेचवर्क कर सभी गड्ढों को भर दिया जाएगा। इसमें अभी भी कई जगहों पर गंदा पानी भरा हुआ है।

Edited By: Jagran