पानीपत [जागरण संवाददाता]। शहर की स्‍वैग क्‍वीन नन्‍ही छह वर्षीय वैष्‍णवी किसी स्‍टार से कम नहीं है। सोनी के रियलिटी डांस शो के फि‍नाले तक पहुंची वैष्‍णवी से कुछ देर के लिए मिलने की चाहत में 15 वर्ष के एक किशोर ने 1300 किलोमीटर की दूरी की भी परवाह नहीं की। यह किशोर बिलासपुर (छत्तीसगढ़) का 15 वर्षीय उत्कर्ष है।

बिलासपुर निवासी इलेक्ट्रीशियन संतोष का पुत्र उत्कर्ष नौवीं कक्षा का छात्र है। वह पानीपत की डांस सनसनी वैष्णवी का जबरदस्त प्रशंसक है। वैष्णवी के डांस स्टाइल, चेहरे की मुस्कराहट के फैन उत्‍कर्ष ने अपने शहर में डांस एकेडमी भी ज्वाइन की, ताकि स्वैग क्वीन से मिल सके। डांस शो खत्म हुआ तो छोटे पर्दे पर वैष्णवी की झलक के लिए मचलने लगा। उसने इंस्टाग्राम से वैष्णवी की मां सोनिया का नंबर लिया।

जेब में खत्‍म हो गए रुपये
मंगलवार की सुबह पिता की जेब से 500 रुपये निकाले और बिलासपुर स्टेशन पहुंचकर पानीपत का टिकट खरीदा। ओडि़शा से वाया छत्तीसगढ़, जम्मू जाने वाली ट्रेन में सवार हुआ और बुधवार की शाम पानीपत उतर गया। यहां पहुंचते-पहुंचते उसके मोबाइल फोन का बैलेंस और जेब में बचे 200 रुपये भी खत्म हो चुके थे। उसने किसी अनजान व्यक्ति के मोबाइल मांगा और वैष्णवी की मां सोनिया को कॉल की। 

vaishavi panipat

स्‍टेशन पर पहुंची  मां,  वैष्‍णवी के साथ खिलाया खाना
दो-तीन कॉल सोनिया ने इग्नोर कर दी। इसके बाद किसी दूसरे व्यक्ति ने सोनिया को पूरा मामला बताकर रेलवे स्टेशन पहुंचने को कहा। सोनिया बुधवार की रात्रि 8 बजे रेलवे स्टेशन पहुंची और उत्कर्ष को अपने साथ ले गई। पुलिस के बजाय उसके माता-पिता को सूचना दी। बृहस्पतिवार को उसने वैष्णवी के संग नाश्ता, लंच और डिनर किया। शुक्रवार को उसके पिता संतोष और मां बबीता पानीपत पहुंचे और पुत्र को अपने साथ लेकर चले गए।

रेलवे पुलिस की चौकसी पर सवाल
1300 किमी और 24 घंटे एक अकेले बच्चे का ट्रेन में सफर आरपीएफ और जीआरपी की चौकसी पर सवाल खड़े कर रहा है। यह ठीक है कि उसने टिकट लेकर यात्रा की है, लेकिन अभिभावकों के बिना यात्रा कर रहे किशोर पर रेलवे पुलिस की नजर तक नहीं पड़ी। पानीपत रेलवे स्टेशन पर भी देर सायं उत्कर्ष कई घंटे अकेला टहलता रहा और लोगों से मदद मांगता रहा।

वैष्‍णवी को मिलने लगे विज्ञापन
डांस सनसनी और स्‍वैग क्‍वीन के नाम से मशहूर हुई वैष्‍णवी को अब विज्ञापन भी मिलने लगे हैं। एक विज्ञापन की शूटिंग की गई है। इसके अलावा वैष्‍णवी के नाम से एक नया रिकार्ड भी जुड़ा है। उसने अपने नाम से डांस स्‍टूडियो खोला है। शहर के बड़े स्‍कूलों में डांस स्‍टेप सिखाने भी जाती है। दरअसल, वैष्‍णवी को आगे बढ़ाने में शहर की संस्‍थाएं भी सहयोग कर रही हैं। बेटी बचाओ टीम के संयोजक ललित गोयल का कहना है कि प्रतिभाओं को मौका तो मिलना ही चाहिए।

Posted By: Ravi Dhawan