करनाल, जेएनएन। करनाल में कुछ राहत की बात है कि कोरोना संक्रमण के आंकड़ों में मामूली कमी देखने को मिली है। लेकिन संक्रमण की दर कितने नीचे तक जाएगी, अब यह देखने वाली बात है। मंगलवार को 577 मरीज ठीक होकर घर लौटे जबकि 550 संक्रमण के नए मामले भी सामने आए। यानि रिकवरी रेट में सुधार हुआ। जबकि मौत के आंकड़े अभी भी डराने वाले हैं।

मई माह में एक दिन में 12 मरीजों की मौत का यह आंकड़ा दूसरी बार आया है। इधर संक्रमण को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग का पूरा अमला जुटा हुआ है। आक्सीजन बेड की संख्या को बढ़ाया जा रहा है। मंगलवार को संत निरंकारी भवन में 30 बेड, सीएचसी इंद्री में 20 व पीएचसी कुंजपुरा में 15 बेड की व्यवस्था की गई है। डीसी निशांत कुमार यादव ने सभी केंद्रों का निरीक्षण कर व्यवस्था बनाने में तेजी लाने के निर्देश जारी किए हैं।

करीब 84 प्रतिशत तक रिकवरी रेट, मृत्यु दर में बढ़ोतरी

सिविल सर्जन की रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस से संक्रमित अब तक लिए गए 332823 में से 297976 सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है। जिले में अब तक 33801 संक्रमित केस सामने आए थे, जिनमें 28329 मरीज ठीक होकर घर चले गए। जिले का पॉजिटिविटी रेट 8.17 है और रिकवरी रेट 83.81 था, मृत्यु दर 1.07 प्रतिशत है। जिले में मंगलवार को कोरोना से संक्रमित 550 नए केस सामने आए हैं। जिले में अबत 362 कोरोना मरीजों की उपचार के दौरान मौत हो चुकी है। सक्रिय केसों की संख्या घटकर 5110 तक आ गई है। डीसी ने कहा कि सभी नागरिक लॉकडाउन के नियमों का पालन करें तथा घर पर रहें तथा पैनिक न बनाएं।

मई में अब तक कोरोना संक्रमण की स्थिति

तारीख संक्रमितों की संख्या

एक मई 740

दो मई 780

तीन मई 449

चार मई 547

पांच मई 759

छह मई 620

सात मई 500 

आठ मई 590 

नौ मई 643 

10 मई 567 

11 मई 550 

स्त्रोत- जिला स्वास्थ्य विभाग करनाल।

जिले में यह है बेडों की स्थिति

जिले में 411 आक्सीजन सहित नॉन एसी बेड और 400 भरे हुए हैं जबकि ऑक्सीजन सहित आईसीयू बेड 241 हैं, जिनमें 238 भरे हुए हैं तथा तीन खाली है। मंगलवार तक जिले के केसीजीएमसी ऑक्सीजन के साथ नॉन आईसीयू 190 बेड हैं, जिसमें 189 भरे हुए हैं। इसी प्रकार केसीजीएमसी में ही ऑक्सीजन के साथ आईसीयू के 110 बेड हैं, जो भरे हुए हैं।

अमृतधारा अस्पताल चौड़ा बाजार में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू 38 बेड हैं, जो भरे हुए हैं तथा आक्सीजन सहित आईसीयू बेड 26 हैं जिनमें 25 भरे हुए हैं। इसी प्रकार अर्पणा अस्पताल मधुबन में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू 16 बेड हैं, जिनमें 11 भरे हुए हैं तथा आक्सीजन सहित आईसीयू बेड दो हैं, जो भरे हुए हैं।

उन्होंने बताया कि डा. ज्ञान भूषण नर्सिंग होम करनाल में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू 6 बैड हैं, जिनमें पांच भरे हुए हैं तथा आक्सीजन सहित आईसीयू बेड पांच हैं जो भरे हुए हैं।

ईश्वर कृपा अस्पताल में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू 14 बेड हैं, जो भरे हुए हैं तथा आक्सीजन सहित आईसीयू बेड सात हैं, जो भरे हुए हैं।

करनाल नर्सिंग होम में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू आठ बेड हैं, जिनमें सात भरे हुए हैं तथा आक्सीजन सहित आईसीयू बेड 10 हैं जो भरे हुए हैं।

पार्क अस्पताल करनाल में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू 15 बेड हैं। सभी भरे हुए हैं तथा आक्सीजन सहित आईसीयू बेड 25 हैं, जो भरे हुए हैं।

रामा सुपर स्पेशिलिटी अस्पताल में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू आठ बेड उपलब्ध हैं, जो भरे हुए हैं तथा आक्सीजन सहित आईसीयू बेड छह हैं, जो भरे हुए हैं।

आरपी वैल्टर अस्पताल बसताड़ा में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू 10 बेड हैं, सभी भरे हुए है तथा आक्सीजन सहित आईसीयू बैड चार हैं जो भरे हुए हैं।

इसी प्रकार सर्वोदय अस्पताल में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू 12 बेड हैं, जिनमें 10 भरे हुए हैं तथा आक्सीजन सहित आईसीयू बेड 10 हैं, जिनमें नौ भरे हुए हैं।

श्रीराम चंद्र मैमोरियल अस्पताल में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू आठ बेड हैं, जिनमें सात भरे हुए हैं तथा आक्सीजन सहित आईसीयू बेड सात हैं, जो भरे हुए हैं।

इसी प्रकार श्री सनातन धर्म मंदिर महाबीर दल करनाल में ऑक्सीजन सहित नॉन आईसीयू 12 बेड हैं, जो भरे हुए हैं।