कुरुक्षेत्र, जागरण संवाददाता। कोरोना की तीसरी लहर का संक्रमण कुरुक्षेत्र जिले में तेजी के साथ बढ़ रहा है। जिले में कई जगहों पर कोरोना संक्रमण का प्रभाव बहुत ज्यादा है। सबसे अधिक शहरी क्षेत्र में कोरोना के संक्रमित मिल रहे हैं। इसमें बड़ी बात संक्रमण लोगों में फैल गया है। स्वास्थ्य विभाग इसको काबू करने के लिए एक्शन में भी आया है। इसके लिए हाई रिस्क क्षेत्रों में कोरोना की सैंपलिंग बढ़ाई गई है। इसके नतीजन कोरोना के केस सामने भी आए हैं। जिले में पाजिटिव केसों की रिकवरी रेट 95.34 पर है और सैंपल पाजिटिव रेट घटकर 3.73 पर पहुंच गया है।

जिले में मोहननगर पीएचसी के अंतर्गत सबसे अधिक 41 केस कोरोना पाजिटिव मिले हैं। कृष्णा नगर गामड़ी में 38, पिहोवा सीएचसी में 33, बारना सीएचसी में 24 और बाबैन सीएचसी में 15 केस आए हैं। स्वास्थ्य विभाग की माने तो जिले में अब तक 649645 के सैंप लिए हैं। इनमें से 623813 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है। जिले में कोरोना एक्टिव केसों की संख्या 702 है।

कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए टेस्ट जरूरी

जिला सिविल सर्जन डा. सुखबीर सिंह ने बताया कि कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने वाले लोगों को कोरोना टेस्ट करवाने की जरूरत है। इसके लिए लोगों को खुद आगे आना होगा। लोगों के स्वास्थ्य की स्क्रीनिंग और टेस्ट करने की जरूरत है। अगर कोई व्यक्ति कोरोना पाजिटिव हुआ और वह घर से बाहर और बाजार में घूमता रहा तो कोरोना वायरस के फैलने का खतरा ओर बढ़ सकता है। प्रशासन बार-बार आमजन से अपील कर रहा है कि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए अधिक से अधिक लोगों को टेस्ट करवाने के लिए सामने आना चाहिए। खांसी-जुखाम व बुखार के लक्षण पर तुरंत कोरोना का टेस्ट कराना चाहिए। स्वास्थ्य विभाग मोबाइल वैन और सरकारी अस्पतालों में कोरोना के टेस्ट किए जा रहे हैं। किसी भी व्यक्ति को टेस्ट करवाने के लिए घबराने की जरूरत नहीं है।

Edited By: Rajesh Kumar