कुरुक्षेत्र, जेएनएन। कोरोना का संक्रमण कम नहीं हो रहा है। वीरवार को 24 घंटे में 239 नए मरीज पाए गए। ये मंगलवार से भी तीन मरीज अधिक मिले। नए केसों में स्कूलों के विद्यार्थी और टीचर भी पॉजिटिव हैं। कई गृहिणी और सामान्य लोगों को भी कोरोना ने अपनी चपेट में ले लिया है। इसके साथ जिले में कोरोना पॉजिटिव का आकड़ा 14 हजार से भी ऊपर कूद गया है।

जिला सिविल सर्जन डा. सुखबीर ङ्क्षसह ने वीरवार सायं जारी एक हेल्थ बुलेटिन में बताया कि कुरुक्षेत्र में अलग-अलग जगहों से कोरोना वायरस से संक्रमित 239 नए केस सामने आए हैं। 155 मरीजों की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आने पर डिस्चार्ज कर दिया गया है। जिले में अब तक 14823 पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। इनमें से 12576 मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं और 166 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो चुकी है। अब कोरोना वायरस के 2081 एक्टिव केस हैं।

आइसीयू में वेंटीलेंटर के 45 और आक्सीजन के 295 बेड

कोरोना से संक्रमित मरीजों का इलाज व देखभाल करने के लिए आदेश मेडिकल कालेज, अग्रवाल नर्सिंग होम, आरोग्यम अस्ताल, सिग्नस अस्पताल, एलएनजेपी, सरस्वती मिशन पिहोवा, बीएस हार्ट केयर, मीरी-पीरी अस्पताल शाहाबाद, वर्मा अस्पताल, अग्रसेन अस्पताल सेक्टर-7, एसएमआइएस, सिद्घार्थ अस्पताल शाहाबाद, कुरुक्षेत्र नर्सिंग होम, निरोगी अस्पताल शाहाबाद को चिह्नित किया गया है। इन अस्पतालों में 508 बेड की व्यवस्था की गई है। इस समय 240 बेड खाली हैं, जबकि 268 बैड पर मरीज दाखिल हैं। इनमें से बिना आक्सीजन सुविधा के 112 बेड है। जिसमें से 27  पर मरीज और 85 खाली हैं। आक्सीजन सुविधा से लैस 295 में से 166 पर मरीज है और 129 बेड खाली हैं।

कालाबाजारी रोकने को विधायक मैदान में उतरे

विधायक सुभाष सुधा ने कहा कि कुरुक्षेत्र में कोरोना से संबंधित दवाइयों और इंजेक्शन की कालाबाजारी किसी भी कीमत पर नहीं होने दी जाएगी। जो भी व्यक्ति इस प्रकार की गतिविधियों में संलिप्त पाया गया, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। इतना ही नहीं कुरुक्षेत्र में खाद्य पदार्थों की कालाबाजारी करने वालों पर भी नजर रखी जाएगी। प्रशासनिक अधिकारियों को आवश्यक दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं। उन्होंने वीरवार सायं वीडियो कांफ्रेंस पर हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता से भी बात की।

पोर्टल तैयार किया जाएगा

किसी भी व्यक्ति की स्वास्थ्य सेवाओं के बारे में ताजा स्थिति को जानकारी लेने के लिए पोर्टल तैयार किया जाएगा। ऐसे में कोई भी व्यक्ति किसी भी अस्पताल में बेड, आक्सीजन, वेंटीलेटर की वास्तविक स्थिति को घर बैठे ही जान सकेगा। इसके साथ श्री कृष्णा आयुष विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों का भी जरूरत पडऩे पर इलाज में सहयोग लिया जाएगा।

खाद्य आपूर्ति विभाग सतर्क

खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारी जमाखोरी को देखते सतर्क हो गया है। प्रशासन भी इस पर निगाह रख रहा है। किसी भी परिस्थिति में खाद्य पदार्थों की कोई कमी नहीं होने का प्रशासन का दावा है। प्रशासन सामाजिक व धार्मिक संस्थाओं से भी संपर्क साधने की तैयारी में है।

Edited By: Anurag Shukla