जागरण संवाददाता, पानीपत : नगर निगम के कमिश्नर यशेंद्र सिंह सात जून से लंबी छुट्टी पर हैं। कब तक अवकाश पर रहेंगे, अधीनस्थ अधिकारी भी नहीं बता पा रहे हैं। सोनीपत नगर निगम के कमिश्नर धर्मेंद्र सिंह को पानीपत का अतिरिक्त प्रभार दिया हुआ है। नतीजा, सदन की बैठक नहीं बुलाई जा सकी। शहर की 50 से अधिक गलियों के टेंडर रद हो गए थे, दोबारा लगने थे लेकिन अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे कमिश्नर ने रुचि नहीं दिखाई है। शौचालयों की मरम्मत के लिए भी टेंडर जारी नहीं हुए हैं।

वहीं पिछले दिनों मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा बुलाई गई बैठक में पानीपत एसई रमेश कौशिक व डिप्टी म्युनिसिपल कमिश्नर गए थे। इस बैठक में उम्मीद थी कि नए कमिश्नर को लेकर चर्चा होगी, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। बताया जाता है कि निगम कमिश्नर यशेंद्र सिंह पानीपत आना ही नहीं चाहते। जिस समय तत्कालीन कमिश्नर आरके सिंह का तबादला हुआ, तब भी 10 दिन बीत जाने के बाद भी कमिश्नर यशेंद्र सिंह ने चार्ज नहीं संभाला था। इसके बाद एक सप्ताह ही काम काम संभालकर सात जून को लंबी छुट्टी पर चले गए। ड्यूटी समय में भी सीट पर नहीं रहते कर्मचारी

ड्यूटी के समय भी कर्मचारी सीट पर नहीं रहते। इधर-उधर टहलते रहते है। इससे लोगों को काम करवाने में भी दिक्कत आ रही है। कई बार तो कर्मचारी लोगों को यह बोल देते है कि आप निगम कार्यालय में कल आना। इससे उन्हें काफी परेशानी होती है। ये महत्वपूर्ण काम हो रहे हैं प्रभावित

बरसत रोड : इस सड़क का निर्माण कार्य के लिए टेंडर लगाया जाना था। इसमें अब देरी हो रही है। एक साल से सड़क खस्ता हालात में हालात में है।

टायलेट : शहर के बदहाल पड़े टायलेट को रिपेयरिग के लिए टेंडर लगाया जाना है। लेकिन रेगुलर कमिश्नर नहीं होने के कारण टेंडर लगने में देरी हो रही है।

अमरूत योजना : इस योजना संबंधित काम काफी धीमी गति से चल रहे हैं। वार्ड तीन में तो काफी जगहों पर कई दिनों काम रुका हुआ है।

विकास नगर : वार्ड तीन में एबीसी वाली गली में सीवर लाइन बिछाई जानी है। इसका का निर्माण कार्य रुका हुआ है। रूटीन के होने वाले कामकाज में लग रहा समय

नगर निगम के रूटीन कामकाज में भी एक सप्ताह से ज्यादा का समय लग रहा है। अतिरिक्त चार्ज संभाल रहे कमिश्नर धर्मेंद्र सिंह के पास कर्मचारियों को फाइल लेकर सोनीपत जाना पड़ता है। कई बार कमिश्नर बाहर होने कारण फाइल को वहीं कार्यालय में छोड़कर आना पड़ता है। फिर इसके बाद संबंधित फाइल का काम होने में काफी देरी होती है। नहीं हो रहे कार्य : अंजली

वार्ड तीन की पार्षद अंजली शर्मा ने बताया कि अतिरिक्त चार्ज संभाल रहे कमिश्नर फोन तक नहीं उठाते। ऐसे में वार्ड के विकास कार्य कैसे होंगे। जल्द ही नया कमिश्नर आना चाहिए। जवाब मिलता है कमिश्नर नहीं : शिव कुमार

वार्ड 13 के पार्षद शिव कुमार शर्मा ने बताया कि जब नगर निगम में कोई काम के लिए अधिकारियों से बात करते है तो जवाब मिलता है कि कमिश्नर नहीं है। इससे काफी परेशानी हो रही है। इस सप्ताह में नए कमिश्नर की संभावना : भट्ट

सीनियर डिप्टी मेयर दुष्यंत भट्ट ने बताया कि नए कमिश्नर इसी सप्ताह आ सकते है। इसके बाद शहर के विकास कार्यों में तेजी आएगी। अभी कुछ पता नहीं : कौशिक

नगर निगम के एसई रमेश कौशिक ने बताया कि कमिश्नर आएंगे या नहीं। इसके बारे में कुछ नहीं पता। यह सरकार लेवल का मामला है। अभी नए कमिश्नर आने की भी कोई जानकारी नहीं।

Edited By: Jagran