कुरुक्षेत्र, जेएनएन। मुख्यमंत्री मनोहर लाल मंगलवार को कुरुक्षेत्र पहुंचे। उन्होंने कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में संग्रहालय पहली जंग ए आजादी 1857 का लोकार्पण किया। वाल ऑफ हीरोज गैलरी का भी लोकार्पण किया। इस दौरान उनके साथ कुवि के वाइस चांसलर प्रो. सोमनाथ सचदेवा, थानेसर के विधायक सुभाष सुधा व लाडवा के पूर्व विधायक डा. पवन सैनी मौजूद रहे। सीएम ने सबसे हालचाल जाना और काेरोना को लेकर सजगता बरतने की सलाह दी। 

मुख्यमंत्री मनोहर लाल सायं करीब 4:30 बजे हेलीकॉप्टर से सीधे कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय पहुंचे। यहां खेल मैदान में हेलीपैड बनाया गया था। सबसे पहले रेस्ट हाउस में कुछ देर तक मौजूदा स्थिति पर चर्चा की। मुख्यमंत्री ने इसके बाद संग्रहालय और गैलरी का लोकार्पण किया। उन्होंने कहा कि 1857 की क्रांति में देश की आजादी को एक दिशा मिली थी। उनकी यादों को संजोकर रखना बड़ी उपलब्धि है। 

कलाकारों ने दी शानदार प्रस्तुति 

हरियाणा कला परिषद ने मंगलवार को कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय में बैसाखी उत्सव मनाया। मुख्यमंत्री मनोहर लाल इसमें मुख्यातिथि रहे। हरियाणा, पंजाब और राजस्थान के कलाकारों ने शानदार प्रस्तुतियों के साथ सबका मन मोह लिया। उत्सव में हरियाणा के लोक वाद्ययंत्र अपनी स्वर लहरियों के द्वारा प्रदेश की संस्कृति का बखान करेंगे। पंजाब के नवांशहर से मुनीष भट्टी व ग्रुप ने पंजाबी लोक गायिकी, भंगड़ा तथा जिंदुआ की प्रस्तुति दी। इसके अलावा बाड़मेर राजस्थान से गौतम परमार की टीम लंगा गायन, भवई नृत्य व कालबेलिया प्रस्तुत दी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सबको बैशाखी की शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि कलाकार सभ्यता और संस्कृति को संजोकर रखते हैं। उनकी प्रस्तुतियों को देखकर लोग अपनी जीवनशैली में भी बदलाव लाते हैं।

पानीपत की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप