घरौंडा(करनाल), संवाद सहयोगी। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि नशा एक अभिशाप है।  इसके खिलाफ एकुजट होकर लड़ाई लड़नी है। नशा करने वाले का बड़ा अपराध नही है, बल्कि नशे की सप्लाई करने वाले सबसे बड़े अपराधी है। नशे को रोकने के लिए अपराधियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जानी चाहिए। इसके लिए कोई कानून व कायदें भी बदलने पड़े तो सरकार इसके लिए तैयार है।

मुख्यमंत्री मनोहर लाल रविवार को हरियाण पुलिस अकादमी मधुबन स्थित हर्षवर्धन आडोटोरियम में नशा मुक्त हरियाणा मिशन की शुरूआत करने उपरांत संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में  गृह मंत्री अनिल विज वीडियो काफ्रेंसिंग के जरिए कार्यक्रम में शामिल हुए। मुख्यमंत्री मनोहर लाल, सासंद संजय भाटिया, विधायक हरविंद्र कल्याण, पुलिस महानिदेशक पीके अग्रवाल सहित पुलिस व अकादमी के अधिकारियों ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की शुरूआत की।

युवा वर्ग को साथ लेकर चलना होगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि नशे के खिलाफ सभी ने मिलकर और युवा वर्ग को साथ लेकर चलना होगा। अब प्रयास ओर साथी मोबाईल ऐप के जरिये नशे के आदि लोगो और नशे की बिक्री को पकड़ा जाएगा। इस दौरान मुख्यमंत्री ने नशा न करने को लेकर शपथ भी दिलाई तो वहीं नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो द्वारा किए जा रहे प्रयासों की सराहना भी की।

खेलो कूदोगे तो होंगे खराब की नीति को बदला सरकार ने

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि  सरकार ने खेलों के लिए बेहतर नीतियां बनाई है। पूरे प्रदेश में युवाओं के लिए लगभग 1100 नर्सरियों खोली जाएगी। जिसमें हर वर्ष 27 हजार युवा भर्ती होंगे। उन्होंने कहा कि आज का युवा कल के अपने भविष्य का कर्णधार है। सरकार ने युवाओं के भविष्य को सुधारने के लिए काफी योजनाएं चलाई है। युवा देश का उज्ज्वल भविष्य है। पहले युवा दौड़ते थे, कुश्ती करते थे। इसी के साथ युवा अलग-अलग खेलों में हिस्सा लेते थे।

परिवार के लोग कहते थे कि खेलो कूदोगे तो होंगे खराब, पढों-लिखोंगे तो बनोगे नबाब, लेकिन अब सरकार द्वारा बनाई गई नीति से यह अर्थ बदल गया है। खेलों के लिए बनाई नीतियों के अनुसार पढ़ो लिखों तो भी बनोगे नबाब और खेलों कूदों तो भी बनोगे नबाब। सीएम ने कहा कि युवाओं का गांव में  जमीन कम होने से रूझान कम होने लग गया था,लेकिन अब  बढऩे लगा है। उन्होंने कहा कि सरकार ने खिलाडिय़ों के लिए काफी महत्वपूर्ण योजनाएं चलाई हुई है।  

हर तस्कर तक पहुंचना है लक्ष्य : डीजीपी

डीजीपी पीके अग्रवाल ने कहा कि इस अभियान का लक्ष्य प्रदेश को नशा मुक्त करना है। इसके लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे। हर नशा तस्कर तक पहुंचा जाएगा, ताकि उसे गिरफ्त में लेकर कानूनी कार्रवाई करते हुए सजा दिलाई जा सके। आम जन को भी प्रदेश सरकार व पुलिस के साथ सहयोग करना होगा। हरियाणा स्टेट नारकोटिक्स ब्यूरो द्वारा यह अभियान पूरी मजबूती के साथ चलाया जाएगा, ताकि सार्थक परिणाम सामने आ सके। एडीजीपी श्रीकांत जाधव ने भी प्रदेश को नशा मुक्त बनाए जाने को लेकर बनाए गए प्लान से उपस्थित पुलिस अधिकारियों व अन्य लोगों को रूबरू करवाया। 

Edited By: Rajesh Kumar