जागरण संवाददाता, पानीपत : सीएम फ्लाइंग दस्ता ने माडल टाउन एरिया, आठ मरला चौकी के नजदीक स्थित एजेएमडी एग्रो फूड कंपनी में छापा मारा। जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने यहां से सात सैंपल लिए हैं। टीम को शिकायत मिली थी यहां मिलावटी ब्लेंडेड एडिबल वेजिटेबल आयल (वनस्पति तेल) तैयार कर पूरे हरियाणा में सप्लाई किया जाता है।

बुधवार सुबह लगभग 10:30 बजे कंपनी से तैयार माल बाहर भेजने के लिए टेंपों में लादा जा चुका था। ऐनवक्त सीएम फ्लाइंग करनाल के एएसआइ राज सिंह, एएसआइ विरेंद्र सिंह ने मय टीम छापा मार दिया। टेंपो को बाहर जाने से रोक दिया। टेंपो में 500 एमएल, 1000 एमएल की बोतलों में पैक ब्लेंडेड एडिबल वेजिटेबल आयल पेटियों में बंद कर रखा हुआ था। इसके बाद कंपनी का मेन गेट भी बंद करवा दिया, ताकि माल बाहर न निकाला जा सके।

तीन बड़ी टंकियों में पाम आयल, राइस ब्रेन और सोया आयल भरा हुआ था। 15 लीटर वाले टिन भी भरे रखे हुए थे। दस्ता के सदस्यों ने पहले कंपनी का कोना-कोना देखा, कहां कच्चा-पक्का माल रखा हुआ है। इसके बाद जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी श्यामलाल ने सैंपलिग की। लैब से रिपोर्ट आने के बाद ही बताया जाएगा कि तैयार हो रहा वनस्पति आयल मानव शरीर के लिए नुकसानदेह है अथवा नहीं। मिलावटी माल की सूचना

एएसआइ राज सिंह ने बताया कि पहले भी इस कंपनी का वनस्पति आयल दो बार मिस ब्रांडेड मिला है। इस बार भी मिलावटी माल तैयार करने की सूचना पर छापा मारा गया है। 2800 लीटर माल तैयार था

एएसआइ ने बताया कि कंपनी में लगभग 2800 लीटर माल तैयार रखा हुआ था। इसे कलिगा, इंडिया गेट, आनेस्ट, बांसुरीवाला, जिओ और केसर ब्रांड से बाजार में थोक विक्रेताओं को सप्लाई किया जाता रहा है। कंपनी इसे 500 एमएल से 15 लीटर की पैकिग में बेचती है। टंकी में था कच्चा माल

टीम ने कलिगा ब्रांड के तीन सैंपल लिए हैं। टंकियों में राइस ब्रेन, पाम आयल, सोया आयल और ब्लेंडेड एडिबल वेजिटेबल आयल भरा था। इनका भी एक-एक सैंपल लिया गया है। पहले था पानी का बिजनेस

कंपनी के मालिक अश्वनी कुमार ने बताया कि पहले साझेदारी में उसका गांव सिवाह में एजेएमडी के नाम से ही बोतल बंद पानी का बिजनेस था। पार्टनरशिप टूटी को आठ साल पहले लेंडेड एडिबल वेजिटेबल आयल का बिजनेस शुरू किया। झूठी की शिकायत

अश्वनी कुमार ने बताया कि बिजनेस को चलता देख कुछ लोग खुश नहीं हैं। झूठी शिकायत करते हैं। इस बार भी ऐसा ही हुआ है। मेरे माल का सैंपल कभी फेल नहीं आया है।

Edited By: Jagran