जागरण संवाददाता, पानीपत, समालखा : मुख्यमंत्री उड़नदस्ता, करनाल टीम ने शुक्रवार की रात्रि करीब साढ़े आठ बजे समालखा, गांधी कालोनी स्थित ओम डेयरी एंड आइसक्रीम (फैक्ट्री) में छापा मारा। यहां से आइसक्रीम, कुल्फी के सात सैंपल लिए गए। घरेलू बिजली से संचालित फैक्ट्री का मालिक फूड लाइसेंस भी नहीं दिखा सका।

सहायक उपनिरीक्षक राज सिंह (मुख्यमंत्री उड़नदस्ता) ने बताया कि समालखा क्षेत्र के गांव कारकोली गढ़ निवासी सुरेश सैनी ने बिना फूड लाइसेंस के घर में ही आइसक्रीम की फैक्ट्री लगाई हुई है, ऐसी सूचना हमें मिली थी। फैक्ट्री में रात्रि पहर में कुंडी कनेक्शन से बिजली की चोरी भी की जाती है। शुक्रवार रात्रि करीब साढ़े आठ बजे जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी श्यामलाल और उपमंडल अभियंता बिजली निगम के साथ फैक्ट्री में छापा मारा गया। रिकार्ड जांचा तो फैक्ट्री मालिक ने जीएसटी नंबर लिया हुआ है। फैक्ट्री मालिक मौके पर भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (एफएसएसएआइ) का रजिस्ट्रेशन और फूड लाइसेंस को नहीं दिखा सका।फैक्ट्री में कामर्शियल की बजाय घरेलू मीटर लगा था।निगम के अधिकारियों ने बिजली चोरी का एलएल-फार्म भरा है।

जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि भरे गए सैंपल जांच के लिए प्रयोगशाला में भेज दिए हैं। रिपोर्ट के आधार पर आगामी कार्यवाही की जाएगी। इनके लिए सात सैंपल

ओरेंज आइस कैंडी, मेंगो आइस कैंडी, रसभरी, बटर स्काच आइसक्रीम, मटका कुल्फी, चाकलेट कुल्फी, गोला कुल्फी। फूड लाइसेंस नहीं दिखाने के लिए फैक्ट्री स्वामी को नोटिस जारी किया जाएगा। बड़े स्तर पर कारोबार

ओम डेयरी एंड आइसक्रीम (फैक्ट्री) वर्षों पुरानी है। तमाम वेंडर इससे जुड़े हुए हैं। बड़े स्तर का कारोबार है। इतनी पुरानी फैक्ट्री का घरेलू मीटर से संचालित होना, बिजली निगम के अधिकारियों की लापरवाही को भी दर्शाता है। दूसरी डेयरी से दो सैंपल

जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि मातापुरी रोड समालखा स्थित बालाजी डेयरी से भी देसी घी और खीर का सैंपल लिया है। इन्हें भी जांच के लिए लैब भेजा गया है।

Edited By: Jagran