कैथल, जागरण संवाददाता। एक युवक को अमेरिका भेजने के नाम पर 40 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया है। इस मामले में डेरा भाग सिंह कालोनी चीका निवासी हरविंद्र सिंह ने गृहमंत्री अनिल विज को शिकायत दी थी। शिकायत के आधार पर चीका थाना में आरोपित लाडवा निवासी रामेश्वर दास, आइटीआइ चौक करनाल निवासी नरेंद्र सिंह, गुहला निवासी राजेश कुमार, पिहोवा निवासी आढ़ती राजबीर सिंह, पिहोवा निवासी आढ़ती दयानंद, चीका निवासी आढ़ती सतीश के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया है।

उसकी आरोपित राजेश कुमार के साथ अच्छी जान पहचान थी। एक जून 2022 को राजेश ने बताया कि उसका मामा नरेंद्र सिंह लोगों को अमेरिका भिजवाने का काम करता है। उसके अमेरिका दूतावास और डोंकी के एजेंटों से अच्छे संबंध हैं। वह 20 दिन में ही युवाओं को अमेरिका भेज देता है और 50 लाख रुपये लेता है। उससे जान पहचान होने के कारण पांच लाख रुपये कम लेंगे।

राजेश ने सारी जिम्मेदारी लेकर छह जून को आरोपितों को उसके घर बुला लिया। वहां आरोपित राजेश और रामेश्वर को पांच लाख रुपये, पासपोर्ट और अन्य कागजात दे दिए। उसके बाद आरोपित बोले की जल्दी जाने के लिए 35 लाख भी देने होंगे। वे पैसों को पिहोवा के दोनों अनाज मंडी आढ़तियों के पास रख दो।

अमेरिका जाने के बाद हम आढ़ती से पैसे ले लेंगे। उन्होंने 30 लाख रुपये की नकदी और पांच लाख रुपये का चेक पिहोवा के आढ़तियों को दे दिए। आढ़ती ने इस पैसे की रसीद भी दे दी थी। उनके पास पैसे देते हुए की वीडियो भी है। इसके अलावा भी आरोपितों ने 50-50 हजार रुपये कई बार उनसे लिए।

आरोपित ने कहा वीजा आ गया

आरोपित ने 16 जून को फोन करके बताया कि उसका वीजा आ गया है। वे दिल्ली चले गए, जहां आरोपितों ने उन्हें 20 दिनों तक होटल में ही रखा। उसके बाद उसे न्यूयार्क की टिकट दी गई। 14 जुलाई को आरोपित उसे कलकत्ता ले गए। 16 जुलाई को आरोपितों ने नकली वीजा और टिकट दे दी, जिसके कारण उनकी एयरपोर्ट पर एंट्री नहीं हुई। आरोपितों से संपर्क किया तो वे पैसे वापस देने में आनाकानी करने लगे। कई बार पंचायतें हुई, लेकिन उन्हें पैसे वापस नहीं मिले। जांच अधिकारी एएसआइ जयपाल ने बताया कि पुलिस ने शिकायत के आधार पर छह लोगों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Edited By: Anurag Shukla

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट