पानीपत/कुरुक्षेत्र, जेएनएन। कुरुक्षेत्र के शाहाबाद में दिनदहाड़े नकाबपोश बदमाशों ने शराब ठेकेदार शराब के ठेकेदार भीमसेन उर्फ राजू कालड़ा पर अंधाधुंध गोलियां बरसाईं। हमले में राजू कालड़ा बाल-बाल बचा, लेकिन उसके सिर पर चोट आई है। वहीं, मंजिंदर विर्क नाम के युवक की फेसबुक वॉल पर हमले की जिम्मेदारी लेते हुए एक पोस्ट की गई है। इसमें लिखा है ये तो सिर्फ ट्रेलर है। 

राजू कालड़ा ने बताया कि बृहस्पतिवार शाम सात बजे वह रेलवे रोड स्थित अपने कार्यालय पर कर्मचारी जस्सा के साथ चाय पी रहा था। तीन नकाबपोश पैदल-पैदल उनके कार्यालय के बाहर पहुंचे और रिवॉल्वर से गोलियां बरसाने लगे। वह नीचे झुक गया। फायर दुकान के शीशे को तोड़ते हुए दीवारों पर जा लगे। कालड़ा ने कहा कि नकाबपोशों ने करीब 8 से 10 फायर किए और रिवाल्वर लहराते हुए फरार हो गए। गोली से टूटा शीश उनके सिर पर लगा। दुकानदारों ने उन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पहुंचाया।

सूचना पर डीएसपी सुरेंद्र मांजू, थाना प्रभारी विपिन कुमार व चौकी प्रभारी सुनील वत्स ने घटनास्थल का दौरा किया और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पहुंचकर राजू कालड़ा से बातचीत की। पुलिस ने खाली खोल भी घटनास्थल से बरामद कर लिए हैं।

नहीं है किसी से दुश्मनी

हमले को 15 मार्च को शराब के नये ठेके छूटने से जोड़कर देखा जा रहा था। लेकिन राजू कालड़ा ने इस बात से इंकार किया है। राजू कालड़ा ने कहा कि उनकी किसी से रंजिश नहीं है।

सड़क पर खड़े होकर पूछा कालड़ा का ऑफिस

रेलवे रोड स्थित दुकानदारों का कहना है कि तीनों युवक जीटी रोड की तरफ से रेलवे रोड पर प्रवेश हुए हैं। उन्होंने एक युवक ने पहले राजू कालड़ा के कार्यालय के बारे में पूछा और आगे चले गए। कुछ देर बाद तीनों युवक लौटे और कालड़ा के कार्यालय पर वारदात को अंजाम दिया।

दुकानदार व राहगीर छिपे दुकानों में

गोलियों की तड़तड़ाहट सुनकर दुकानदार व राहगीर दुकानों में घुस गए। जब हमलावर वहां से निकल गए, उसके बाद ही दुकानदार एकत्रित होकर राजू कालड़ा के पास पहुंचे और उन्हें अस्पताल पहुंचाया।

पुलिस हमलावरों तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। आस-पास के थानों पर वीटी करवाकर नाके लगवा दिए हैं। मलावर किस वाहन पर आए पुलिस यह भी जानने में जुटी है। हो सकता है कि हमलावरों ने वाहन जीटी रोड पर खड़ा कर दिया हो और पैदल यहां तक पहुंचे।

- विपिन कुमार, प्रभारी, थाना शाहाबाद

 Facebook

युवक की फेसबुक वॉल पर पोस्ट

फेसबुक पर मंजिंदर विर्क नाम के एक युवक की वॉल पर हमले की जिम्मेदारी लेते हुए पोस्ट हुई है। लेकिन यह युवक कौन है, यह सवाल बना हुआ है। पुलिस ने युवक की तलाश शुरू कर दी है।

कांच के दरवाजे ने बचाई जान

प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा कि अगर राजू कालड़ा की दुकान पर शीशे न लगे होते तो मामला गंभीर हो सकता था। सौभाग्यवश कोई भी फायर राजू कालड़ा को नहीं लगा है।

Posted By: Anurag Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस